उत्कल समाज द्वारा आज पूरे विधी विधान से से हुई पूजा संपन्न…!!

रायगढ़। आज प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में देव स्नान के शुभ अवसर पर श्री जगन्नाथ पुरी धाम के नियमानुसार मोती महल के सामने स्थित श्री श्री जगन्नाथ मंदिर प्रांगण में श्री जगन्नाथ ट्रस्ट एवं उत्कल सांस्कृतिक सेवा समिति द्वारा महाप्रभु किैया बलराम जी को मंदिर गर्भगृह से बाहर स्नान मंडप में लाया गया, स्नान मंडप में पंडितों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण से पूजा पाठ कर महाप्रभु को 108 मंत्र युक्त शुद्ध जल से स्नान कराया गया
ज्ञात हो कि जिस प्रकार पुरी धाम में रथ यात्रा के आयोजन के पूर्व भगवान जगन्नाथ को स्नान एवं अन्य धार्मिक रीति-रिवाजों का अनुसरण करते हुए आयोजन किया जाता है उसी प्रकार रायगढ़ स्थित श्री श्री जगन्नाथ मंदिर मे भी उसी प्रक्रिया का पालन करते हुए उक्त कार्य को किया जाता है ब्रह्म मुहूर्त में स्नान के पश्चात महाप्रभु जी का श्रृंगार कर आरती एवं महाभोग लगाया गया पुनः दोपहर करीब 12:00 बजे मध्य महाआरती के पश्चात छप्पन भोग का प्रसाद लगाकर प्रसाद का वितरण किया गया। इस विकट महाभयंकर करोना कॉल की परिस्थिति को नजर मे रखते हुए इस वर्ष श्री श्री जगन्नाथ मंदिर प्रांगण में भंडारे का आयोजन नहीं किया गया है, लेकिन वैदिक एवं धार्मिक परंपराओं का निर्वहन करते हुए देव स्नान का कार्य संपूर्ण कराया गया आज संध्या आरती के पश्चात मंदिर के पट 17 दिनों के लिए बंद कर दिए जाएंगे अर्थात इन दिनों में महाप्रभु के दर्शन पौराणिक मान्यताओं के अनुसार नहीं किए जा सकते