तस्वीरें बोलती है .. अगर पानी के पास जमी हो काई तो आप पीना पसंद करेंगे पानी.?? रायगढ़ रेलवे स्टेशन का नज़ारा.. रायगढ़ रेलवे कितना जागरूक है लोगो के सेहत के प्रति. ?

रायगढ़। केंद्र की महत्ती योजना स्वच्छ भारत अभियान को लेकर अरबों करोड़ों खर्च किये गए। इस योजना को लेकर आम आदमी में में भी काफी जागरुकता देखने को मिली है। प्रशासनिक स्तर पर भी बहुत फोटो बाजी हुई है। स्वच्छता सर्वेक्षण की भी टीम बनाई गई है। जो हर एक जिले तथा विभागों पर नजर बनाए रखती है और उनको रैंकिंग देती है।

अब हम बात अपने शहर रायगढ़ के रेलवे स्टेशन की करते हैं। पानी मानव जीवन का मूल स्त्रोत है आदमी के स्वच्छता भी काफी हद तक किस पर निर्भर करती है.. किसी सार्वजनिक स्थान पर अगर पीने के पानी के पास अगर आपको काई जमी दिखाई दे तो आप के हिसाब से क्या वह जगह स्वास्थ्य को लेकर सुरक्षित है..?

ऐसा ही नजारा रायगढ़ रेलवे स्टेशन में आपको देखने को मिल जाएगा। यहां पीने के पानी के स्थान पर एक नल के नीचे या आसपास आपको काई जमी हुई मिलेगी। हम आपको प्लेटफार्म नंबर 2 की तस्वीरें दिखा रहे हैं। ऐसा ही कुछ और काफी हद तक सभी पानी के पीने की जगह का है। पानी के पास जमी हुई का इस बात का इशारा करती है कि एक-दो दिन में नहीं हुआ बाकी काफी दिनों से सफाई व्यवस्था है ऐसे ही लचर है। इस प्रकार की आंखों देखी गंदगी देखने के बाद पानी की क्वालिटी पर भी प्रश्नचिन्ह उठता है ?

अमुमन ऐसी जगह पर ट्रेन से उतरने वाले यात्री पानी पीते हैं और फिर अपनी ट्रेन पकड़ कर चले जाते हैं। शायद इसलिए यह मामला आसानी से तूल नहीं पकड़ता। एक स्थानीय जागरूक नागरिक शशीकांत यादव जब अपने परिजनों को छोड़ने के लिए स्टेशन गए थे। वहां उन्होंने नल के नीचे बहुत ही गंदे तरीके से जमे हुए देखें। इसके बाद से तपती गर्मी में गला सूखा होने के बावजूद भी वहां की स्थिति देखने के बाद पानी पीना उचित नहीसमझा और पास की स्टॉल से पानी की बोतल खरीदी।

खैर जो भी हो यह बात हमने अपनी रेलवे के समक्ष रख दी है अब देखना यह है कि रेलवे प्रशासन लोगों के स्वास्थ्य के लिए लेकर कितना गंभीर है..??