रायगढ़ करोना अलर्ट: सड़कों पर सन्नाटा, प्रशासन कड़क ! अब तक 14 लोगों पर महामारी एक्ट के तहत कार्यवाही ! गांवों में दिखा सोशल लॉक डाउन, शहर में छूट के दौरान दिखी सोशल डिस्टेंस में कमी..! स्टालों पर निगम बनाए कम से कम 1 मीटर पर मार्किंग.. पढ़िए पूरी रिपोर्ट..

रायगढ़। करोना वायरस के संक्रमण में विश्व का शायद ही कोई देश छुटा हो। विश्व की सबसे घनी आबादी वाले देश भारत में इस वायरस ने दस्तक दे दी है। अगर ताजा आंकड़े को देखा जाए तो रायगढ़ जिले में अभी तक कोई पॉजिटिव मरीज नहीं मिला है। लेकिन छत्तीसगढ़ में आज रायपुर और राजनांदगांव में एक-एक पॉजिटिव मरीज मिले हैं जिसके बाद से कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 3 हो गई है। इसके साथ ही पूरे देश भर के ताजा आंकड़ों के अनुसार


24 मार्च 2020 (4:45 PM), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) के अनुसार, 24 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में कुल 519 COVID-19 मामले (476 भारतीय और 43 विदेशी नागरिक) दर्ज किए गए हैं। इनमें 39 शामिल हैं जिन्हें ठीक किया गया है / छुट्टी दे दी गई है, 1 जो पलायन कर चुके हैं और 9 की मौत हुई है। सभी संक्रमित मरीजों को अस्पताल में आइसोलेट करके रखा गया है इसके साथ ही इनके सभी संपर्कों होम आइसोलेशन में रखा गया है।

“लॉक डाउन के नियमों का होगा कड़ाई से पालन..! नियम तोड़ने वालों पर दर्ज हो रहे FIR

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल देश को संबोधित करते हुए 21 दिन तक पूरे देश भर में लॉक डाउन की घोषणा कर दी है। इसके साथ ही सभी जिलों के पुलिस कप्तान और कलेक्टर को इसका कड़ाई से पालन करने के लिए निर्देशित किया गया है। जो व्यक्ति इस लॉक डाउन के दौरान व्यवधान उत्पन्न करता है उन कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने को कहा गया है।

“रायगढ़ में महामारी एक्ट के तहत 14 लोगों पर एफ आई आर, कुछ गए जेल”

रायगढ़ जिले में कल इस तरह के मामलों में धारा 188 के तहत 14 मामले दर्ज किए गए हैं। जिसमें सिटी कोतवाली के छह और चक्रधर नगर थाना क्षेत्र के 6 मामले हैं। वही कोतरा रोड और खरसिया थाने में एक मामला दर्ज किया गया है। देखा जाए तो शहरी क्षेत्र में ही 13 मामले हैं। इनमें से कुछ लोगों को जेल भी भेजा गया है। सड़कों पर इतनी कड़ाई और बल प्रयोग के बावजूद भी कुछ एक ऐसे लोग हैं। जो बेवजह घूमते दिखाई देते हैं, इस ऐतिहासिक लॉक डाउन की धज्जियां उड़ाते नजर आते हैं। जिनकी वजह से इस महामारी का नुकसान पूरी जनमानस को भुगतना होगा। फिलहाल पुलिस और प्रशासन दोनों ही इस महामारी को लेकर काफी सख्त हैं। दर्ज की हुई f.i.r. इस बात का सबूत है।

क्या है धारा 188″

आपको डरने की जरूरत है धारा 188 से, जो इस समय पूरे प्रदेश में प्रभावी है। यदि आपने धारा 188 का उल्लंघन किया तो आपको जेल हो सकती है। धारा 188 का पालन कर आप एक और नेक काम कर सकते हैं। देश में महामारी से भी विकट कोरोना जैसे वायरस को फैलने से रोक सकते हैं।

“छूट के दौरान स्टालों पर सोशल डिस्टेंस की दिखी कमी !”

सुबह 5:00 बजे से 9:00 बजे तक छूट के दौरान सब्जी और दूध लेने निकले लोगों में कहीं भी जागरूकता दिखाई नहीं दी, सामान लेने की होड़ दिखाई दी। सोशल डिस्टेंस नाम की कोई चीज लोगों में दिखाई नहीं दी। लोग कतार तो बना रहे थे मगर डिस्टेंस इतनी कम थी कि यह पूरी की पूरी लॉक डाउन को धराशाई करने वाली है और यह कोरोना को निमंत्रण और जन सामान्य के लिए बहुत ही खतरनाक है।

“निगम प्रशासन को 1 मीटर की दूरी पर करना होगा मार्किंग !!

निगम प्रशासन को भी चाहिए कि शहर में लगे कुल 24 स्थानों पर कम से कम गाइडलाइन के अनुसार एक 1 मीटर की दूरी पर मार्किंग की व्यवस्था की जाए। कोई मार्किंग व्यवस्था ना होने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है। जन सामान्य का काफी सहयोगात्मक रवैया रहा है। अगर नगर निगम प्रशासन इस तरह की पहल करता है तो जनता इसमें सहयोग जरूर करेगी।

ग्रामीण क्षेत्रों में दिखी जागरूकता! खुद किया अपने गांव को लॉक डाउन”

शहर में एक तरफ जहां दिनभर सन्नाटा पसरा रहा। वहीं गांव में जागरूकता देखने को मिली गांव में बाहर से आने वाले लोगों को बिना चेकअप के प्रवेश करने नहीं दिया जा रहा है इसके साथ ही लोगों ने गांव पर बांस बल्ली से खुद ही बैरिकेट्स लगा दिए हैं और लॉक डाउन कर दिया है।

“कुछ लोगों की गलतियों से संकट में सभी

“सिर्फ कुछ गिनती के कुछ लोग हैं जो शायद करोना वायरस की गंभीरता को मजाक में ले रहे हैं, लेकिन उनका यह मजाक कितना भारी पड़ सकता है। कल्पना भी नहीं की जा सकती। 6 करोड़ की आबादी और मेडिकल क्षेत्र में पूरे विश्व में दूसरे नंबर पर रहने वाला इटली आज इसकी इतनी भयंकर चपेट में है। जहां सड़कों पर लाशे गिर रही, कोई उठाने वाला नहीं मिल रहा। सेना और पुलिस की मदद से लाशों को हटाया जा रहा है। अब ज़रा आप सोचिए अगर यही चूक भारत में होती है तो 130 करोड़ जैसी की घनी आबादी वाले इस देश में, जिसका मेडिकल में 112 वां स्थान पूरे विश्व में है उसका क्या हश्र होगा यह अकल्पनीय हैं। इसलिए सतर्क रहें सावधान रहें और नियमों का पालन करें। फिलहाल यही एकमात्र रास्ता है।”

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन डब्ल्यूएचओ द्वारा नोबेल कोरोना वायरस के संबंध में एक वीडियो भी जारी किया गया है जिसमें इस वायरस के संबंध में विस्तार से बताया गया है। देखें वीडियो

[cov2019all]