डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी की पिटाई करते हुए वीडियो वायरल ! दूसरी महिला के साथ पति को देखकर हुआ दोनों में विवाद! गृह सचिव ने किया सस्पेंड ! जानिए पूरा मामला, देखें वीडियो

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से बड़ी खबर निकल कर आ रही है। यहां एक डीजी रैंक के अधिकारी पर अपनी पत्नी के साथ मारपीट और घरेलू हिंसा का आरोप लगा है। स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा (लोक अभियोजन संचनालय) पर अपनी पत्नी को पीटते हुए उनका वीडियो भी वायरल हुआ है। जिसके बाद से राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस पर स्वत संज्ञान लिया एवं मध्यप्रदेश शासन ने भी संज्ञान लेते हुए उन्हें कार्यमुक्त कर दिया है।

डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का पत्नी की पिटाई करते हुए वायरल वीडियो

पूरे मामले में अभी तक की प्राप्त जानकारी के अनुसार स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा पर उनकी पत्नी के साथ एक ही घर में रहते हैं मगर 2008 से दोनों अलग-अलग कमरे में रहते हैं। रविवार को दोपहर डीजी पुरुषोत्तम शर्मा के कमरे में दूसरी महिला को देखकर उनकी पत्नी भड़क उठी। जिसके बाद दोनों के बीच विवाद हुआ उनके घर में हर जगह कैमरे लगे हुए हैं। दोनों की मारपीट का वीडियो कैमरे में रिकॉर्ड हो गया। जो बाद में वायरल हो गया।

इस मामले में  डीजी पुरुषोत्तम शर्मा का कहना है कि हमारी शादी को 32 साल हो चुके हैं, 2008 में उसने मेरे खिलाफ शिकायत की थी। लेकिन बात यह है कि 2008 से वह मेरे घर में रह रही है, सभी सुविधाओं का आनंद ले रही है और मेरे खर्चों पर विदेश यात्रा कर रही है। अगर मेरा स्वभाव अपमानजनक है तो उसे पहले शिकायत करनी चाहिए थी। यह पारिवारिक विवाद है, अपराध नहीं। मैं न तो हिंसक व्यक्ति हूं और न ही अपराधी। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मुझे इससे गुजरना पड़ा। मेरी पत्नी मेरा पीछा करती है और घर में हर जगह कैमरे लगा दिए।

मध्य प्रदेश के एक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को दिए गए बयान में उन्होंने यह भी बताया कि अगर वह इस तरह के व्यक्ति होते तो उनका बेटा आईआरएस अफसर नहीं होता। यह घरेलू विवाद है। कोई अपराध नहीं है। उन्हें उम्मीद है कि इस मामले में काउंसलिंग के जरिए मामला सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने यह भी बताया कि उनकी पत्नी उन पर हर समय नजर रखती है। पूरे घर में कैमरे लगवा रखे हैं। वह मेरा पीछा करती है। यहां तक की अगर मैं किसी पार्टी में जाऊं तो वहां भी मेरा पीछा करते-करते पहुंच जाती है, किसी भी महिला से बात करते हुए देखने पर गलत समझती है।

इस पूरे मामले में भोपाल गृह मंत्रालय द्वारा उन्हें उनके पद से कार्यमुक्त कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि उन को कार्य मुक्त कर दिया गया है। कोई भी हो चाहे वह किसी जिम्मेदार पद पर हो और वह गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त पाए जाता है या फिर उसके द्वारा कानून हाथ में लिया जाता है तो उसके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

Join Group