प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट का टि्वटर अकाउंट हैक..! हैकर ने लिखा, यह अकाउंट जॉन विक (hckindia@tutanota.com) ने हैक किया है..

  • News Desk 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट का टि्वटर अकाउंट हैक कर लिया गया है। हैकर ने कोविड-19 रिलीफ फंड के लिए डोनेशन में बिटकॉइन की मांग की। हालांकि तुरंत ये ट्वीट्स डिलीट कर दिए गए। पीएम मोदी की पर्सनल वेबसाइट का टि्वटर अकाउंट पर पर एक मैसेज में लिखा गया, ‘मैं आप लोगों से अपील करता हूं कि कोविड-19 के लिए बनाए गए पीएम मोदी रिलीफ फंड में डोनेट करें।’

Advertisement

एक और ट्वीट में हैकर ने लिखा, यह अकाउंट जॉन विक (hckindia@tutanota.com) ने हैक किया है। हमने पेटीएम मॉल हैक नहीं किया है। हालांकि अब ये ट्वीट डिलीट कर दिए गए हैं। बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पर्सनल वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट है, उसके 25 लाख से ज्यादा फॉलोवर्स हैं।

पीएम मोदी की निजी वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट हैक होने की ट्विटर ने की पुष्टि
ट्विटर ने भी गुरुवार को पुष्टि करते हुए कहा कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट के एक खाते को कई ट्वीट्स के साथ हैक किया गया। ट्विटर ने कहा कि उसे इस मामले की जानकारी है और उसने खाते को सुरक्षित करने के लिए कदम उठाए हैं। ट्विटर प्रवक्ता ने अपने बयान में कहा कि हम स्थिति की सक्रिय रूप से जांच कर रहे हैं। इस समय, हमें अतिरिक्त खातों के प्रभावित होने की जानकारी नहीं है।

पेटीएम मॉल के डेटा चोरी में आया था जॉन विक ग्रुप का नाम

बता दें, पेटीएम मॉल के डेटा चोरी में जॉन विक ग्रुप का ही नाम आया था। साइबर सिक्योरिटी फर्म साइबल ने 30 अगस्त को दावा किया था कि जॉन विक ग्रुप ने पेटीएम मॉल का डेटा चोरी किया। साइबल ने दावा किया था कि इस हैकर ग्रुप ने फिरौती की मांग की थी। हालांकि पीटीएम दावों को खारिज करते हुए कहा कि डेटा में सेंधमारी जैसी कोई घटना नहीं हुई।

जानें क्या होता है बिटकॉइन
बिटकॉइन की शुरुआत 2009 में हुई थी। बिटकॉइन की कीमत लगातार बढ़ रही है। आज इसकी कीमत 10 लाख को क्रॉस कर चुकी है। यह एक तरह की डिजिटल करंसी है। इसकी शुरुआत एलियस सतोशी नाम के शख्स ने की थी। भारत में भी गुपचुप तरीके से बिटकॉइन ट्रेडिंग की जा रही है हालांकि सरकार ने इसके बारे में आगाह किया है। बिटकॉइन ट्रेडिंग डिजिटल वॉलिट के जरिए होती है। बिटकॉइन की कीमत दुनियाभर में एक समय पर समान होती है इसलिए इसकी ट्रेडिंग मशहूर हो गई। दुनियाभर की गतिविधियों के हिसाब से बिटकॉइन की कीमत घटती बढ़ती रहती है। यह किसी देश द्वारा निर्धारित नहीं होती है बल्कि डिजिटली कंट्रोल होती है। स्टॉक मार्केट की तरह बिटकॉइन ट्रेडिंग का कोई निर्धारित समय नहीं होता है। इसकी कीमतों में उतार-चढ़ाव भी बहुत तेजी से होता है।