EPFO इस महीने आएगा 6 करोड़ लोगों के PF अकाउंट में पैसा, मिसकॉल देकर चेक करें अपना बैलेंस..!

1,409 views

नई दिल्ली/कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) वित्त वर्ष 2019-20 के लिए इस महीने के अंत तक कर्मचारियों के प्रोविडेंट फंड (Employee’s Provident Fund) में 8.5 फीसदी की ब्याज जमा करेगा. इससे करीब 6 करोड़ पीएफ खाताधारकों (PF Accountholders) के खाते में पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान की ब्याज की रकम जमा होगी. इससे पहले सितंबर में श्रम मंत्री संतोष गंगवार की अगुवाई में हुई बैठक में EPFO ने ब्याज को 8.15 फीसदी और 0.35 प्रतिशत की दो किस्तों में डालने का फैसला किया था.


न्यूज एजेंसी पीटीआई ने अपने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि श्रम मंत्रालय (Labor Ministry) ने फाइनेंस मिनिस्ट्री को 2019-20 के लिए EPF में एक बार में 8.5 प्रतिशत का ब्याज डालने का प्रस्ताव भेजा है. यह प्रस्ताव इसी महीने भेजा गया है. सूत्र ने कहा कि इस प्रस्ताव पर फाइनेंस मिनिस्ट्री की मंजूरी कुछ दिन में मिलने की उम्मीद है. ऐसे में अंशधारकों के खातों में ब्याज इसी महीने डाला जाएगा. सूत्र ने बताया कि इससे पहले वित्त मंत्रलय ने बीते वित्त वर्ष के लिए ब्याज पर कुछ स्पष्टीकरण मांगा था. वित्त मंत्रालय को यह स्पष्टीकरण दे दिया गया है.

यूएएन पोर्टल पर रजिस्टर्ड सदस्य मिस्ड कॉल देकर अपने अकाउंट का बैलेंस जान सकते हैं.अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से 011-22901406 पर मिस्ड कॉल दें.

इसके बाद EPFO के संदेश के जरिए PF की डिटेल मिल जाएगी.

ये कॉल दो घंटी के बाद अपने आप कट जाएगा. इस सर्विस के लिए कोई भी पैसा नहीं लगेगा.

EPFO यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) की सर्विस देता है, जिसके जरिए अकाउंट धारक अपने PF अकाउंट बैलेंस देख सकते हैं.

ये नंबर बैंक अकाउंट की तरह ही होता है. अपने यूएएन नंबर को एक्टिवेट करने के लिए इस लिंक https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface पर क्लिक कर सकते हैं.

बता दें कि श्रम मंत्री गंगवार की अगुवाई वाले EPFO के निर्णय लेने वाले शीर्ष निकाय केंद्रीय न्यासी बोर्ड (CBT) की मार्च में हुई बैठक में 2019-20 के लिए ईपीएफ पर 8.5 प्रतिशत ब्याज दर को मंजूरी दी गई थी. CBT की मार्च में हुई बैठक में 8.5 प्रतिशत के ब्याज देने की प्रतिबद्धता को पूरा करने का फैसला किया गया था. लेकिन इसके साथ ही सीबीटी ने तय किया था कि 8.5 प्रतिशत के ब्याज को दो किस्तों…8.15 प्रतिशत और 0.35 प्रतिशत में अंशधारकों के खातों में डाला जाएगा.