रायगढ़/ काम के बहाने ठगकर ले गए घर से गाड़ी! ना गाड़ी मिली ना बंदे..! कुछ दिनों बाद जीजा चला रहा था गाड़ी.. चक्रधर नगर थाने में तीन लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज..

1,308 views

रायगढ़। रायगढ़ में अमानत में खयानत एक सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। अक्सर लोग भरोसे में आकर मदद करने के लिए अपनी कुछ चीजें लोगों को दे देते हैं। लेकिन कभी-कभी लौटाने के समय धोखा भी मिलता है। ऐसा ही एक मामला रायगढ़ के चक्रधर नगर थाना क्षेत्र के कबीर पारा आया है। पुलिस ने इस मामले में तीन आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 406 और 34 के तहत अपराध दर्ज कर मामले को विवेचना में लिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार अजय साहू जो कि कसेर पारा चक्रधर नगर में रहता है। 2 अप्रैल 2019 को प्रातः 8:00 बजे उसके दो परिचित किसी काम के लिए उसकी गाड़ी को लेने के लिए आए थे। इनमें से एक अजीत यादव बांग्ला पारा का रहने वाला है और दूसरा टीपू उर्फ मकसूद सर्किट हाउस के पास रहने वाला है। वे दोनों अजय साहू घर आकर कहा, हमारे पास गाड़ी नहीं है, कुछ देर के लिए अपनी गाड़ी हमें दे दो।

दरअसल अजय साहू की एक्टिवा जिसे वह दोनों लेने के लिए आए थे वह पहले से खराब थी। गाड़ी को स्टार्ट होने में कुछ प्रॉब्लम थी। उसके अंदर ₹10000 और कुछ कागजात रखे थे। उन दोनो लोगों ने भरोसा दिलाया कि वह गाड़ी को पास के गैरेज से बनवा लेंगे। क्योंकि अजय दोनों को पहले से जानता भी था इसलिए विश्वास कर उसने अपनी एक्टिवा गाड़ी अजीत यादव और मकसूद को दे दी। पीड़ित का कहना है कि उसके पास गाड़ी को ले जाते हुए दोनों का सीसीटीवी फुटेज भी है।

पीड़ित अजय साहू ने बताया कि उसके बाद ना उसे उसकी गाड़ी मिली और ना ही वह दोनों, जिन्होंने गाड़ी उस से ली थी। काफी पता करने के बाद एक दिन अजय साहू ने अपनी गाड़ी को मकसूद के जीजा आशिक हुसैन के पास देखा। उसने आशिक हुसैन को को बताया कि यह गाड़ी उसकी है मगर  उसने साफ शब्दों पर मना कर दिया।  कहा कि उसने यह गाड़ी सीज की है।

पीड़ित ने इस मामले की शिकायत चक्रधर नगर थाने में की और इस मामले में जांच के पश्चात आज अजीत यादव मकसूद और आरिफ हुसैन के खिलाफ धारा 406 और 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया गया है।