महीने भर पहले हुई हत्या की गुत्थी सुलझी.. अजय देवांगन निकला हत्यारा ! आरोपी के बेटी को परेशान करता था मृतक ! आवेश में आकर आरोपी ने की थी हत्या.. जानें पुरा मामला..!

3,031 views

जांजगीर। जिले के मालखरौदा थाना क्षेत्र के अड़भाड़ चौकी में माह भर पूर्व गुमसुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी,जांजगीर एस पी द्वारा टीम गठित कर मामले की गंभीरता से जांच की गई ,जहां मोबाइल लोकेशन ट्रैक करने पर, हत्या कर शव बालु और फ्लाईएस डंप यार्ड में फेंका जाना पाया गया, जहाँ खोदकर शव निकाला गया । मिली जानकारी के अनुसार पिता ने अपनी बेटी को परेशान करने वाले एक युवक को मौत के घाट उतारने के बाद उसे एक यार्ड में दफना दिया। मृतक के लापता होने के बाद पुलिस युवक की तलाश में जुटी थी। 39 दिन बाद लापता युवक की लाश पुलिस ने बरामद की और आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है।

मालखरौदा थाना क्षेत्र के अड़भाड़ चौकी में 29 अप्रैल को ठाकेन्द्र देवांगन नामक युवक की गुमशुदगी की सूचना उसके परिजनों ने दी थी। इस पर 30 अप्रैल को रिपोर्ट दर्ज की गई। जांच के दौरान गुम इंसान के परिजनों द्वारा ज्ञापन भी सौंपा गया था परंतु कुछ विशेष जानकारी हाथ नहीं लगी। एक माह बाद गुम इंसान के परिजनों ने पुलिस अधीक्षक से मिलकर पुन: निवेदन किए। इसके बाद अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक संजय महादेवा के नेतृत्व में एक विशेष टीम तैयार की गई और गुमशुदा इंसान की सूचना देने पर 5000 रूपय के इनाम की भी घोषणा की गई।

पुलिस अधीक्षक पारुल माथुर से मिली जानकारी के अनुसार जांच के दौरान मुखबिर से सूचना के आधार पर संदेही अजय देवांगन से बारीकी से पूछताछ की गई तब संदेही ने बताया कि युवक ठाकेंद्र देवांगन द्वारा उसकी बेटी से लगातार छेड़छाड़ की जाती थी। इससे उसका परिवार काफी परेशान था। इस वजह से उसने अपनी बेटी के मोबाइल से मैसेज कर आरोपी को बुलाया और गमछे से उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी। आरोपी अजय देवांगन ने हत्या के बाद डीबी पावर प्लांट के मजदूर यार्ड में शव को फेंककर लगभग 15 फीट जाखड़ से ढांक देना बताया। पुख्ता जानकारी मिलने पर न्यायिक मजिस्ट्रेट की अनुमति से यार्ड को खुलवाया गया और शव को बरामद किया गया। शव पर मिले कपड़े और अन्य सामानों से परिजनों ने उसकी पहचान गुम इंसान ठाकेन्द्र देवानंद के रूप में की।

सोमवार को पुलिस ने आरोपी अजय देवांगन को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड पर पेश किया। यहां से उसे जेल दाखिल कर दिया गया है। साथ ही पुलिस अधीक्षक द्वारा गठित जांच दल के सदस्यों को इस हत्याकांड के खुलासे के बाद प्रशस्ति पत्र एवं इनाम दिया गया है।

Read More