RIG Breaking: मेडिकल और इंजीनियरिंग में एडमिशन के नाम पर लाखो की ठगी करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह का पर्दाफास ! सरगना चढ़ा रायगढ़ पुलिस के हत्थे.. बाकी की तलाश में टीम रवाना..! कोतवाली में दर्ज हुआ था 26 लाख की ठगी का मामला..

1,609 views

रायगढ़। मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह का मुख्य आरोपी रायगढ़ पुलिस के हत्थे चढ़ा है। कोतवाली रायगढ़ पुलिस ने इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। पुलिस को इस अंतरराज्यीय गिरोह बारे में काफी जानकारी हासिल हुई है, पुलिस की टीमें अलग-अलग राज्यों में गई हुई है। गिरफ्तार आरोपी पश्चिम बंगाल का रहने वाला है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गंगा नर्सिंग होम के संचालक डॉ वेद प्रकाश पटेल द्वारा कोतवाली थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उनसे उनकी बेटी के रांची मेडिकल कॉलेज में एडमिशन के नाम पर गिरोह द्वारा 26 लाख रुपए की ठगी की गई थी।

हिरासत में आरोपी

मामले की पूरी जानकारी देते हुए रायगढ़ के एडिशनल एसपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि एक अंतरराज्यीय गिरोह जो मेडिकल और इंजीनियरिंग छात्रों को ऑनलाइन काउंसलिंग और एडमिशन के नाम पर के धोखाधड़ी किया करता था। इस गिरोह का एक आरोपी, प्रार्थी ( गंगा नर्सिंग होम के संचालक डॉ वेद प्रकाश पटेल) से एडमिशन के नाम पर ₹26 लाख तक की रकम ऐठ चुका था, ₹4 लाख और देने बचे थे। प्रार्थी को जब इस ठगी का अहसास हुआ तब उसने कोतवाली थाने में इसकी रिपोर्ट लिखवाई रिपोर्ट के बाद दिल्ली मुंबई समेत झारखंड पश्चिम बंगाल जैसे अलग-अलग राज्यों में टीमें रवाना हुई। जहां प्रार्थी की शिकायत सही पाई गई। सायबर टीम, कोतवाली पुलिस की टीम मामले की अलग अलग एंगल से जांच कर रही थी।

आरोपी सुयश चटर्जी उर्फ निगम पंडा

आरोपी को बचे हुए चार लाख की रकम और देनी थी, पैसे देने के लिए आरोपी को गंगा नर्सिंग होम बुलाया गया। जहां उसे ट्रैप कर पकड़ लिया गया। पकड़े गए आरोपी के पास से ₹1 लाख और तीन मोबाइल बरामद हुए हैं। इसके साथ ही कई फ़र्ज़ी दस्तावेज भी बरामद हुए हैं, जो उसने डॉ वेद प्रकाश शर्मा की पुत्री के एडमिशन के लिए बनाए थे। इसके साथ ही उसके साथ उसके पास से तीन आईडी कार्ड बरामद हुआ है।

आरोपी को हिरासत में लेने के बाद से अन्य कई अहम जानकारियां प्राप्त हुई है। आरोपी युवक का नाम सुयश चटर्जी है जो निगम पंडा नाम बता कर ठगी कर रहा था और वह कोलकाता का रहने वाला है। जबकि युवक के अन्य साथी धनबाद व रांची के रहने वाले हैं। आरोपी ने अपने चार अन्य और साथियों का नाम बताया है, जो अलग-अलग राज्य के हैं। इस मामले में एक जल्द ही इस अंतर्राज्यीय गिरोह के बाकी सदस्यों को भी पकड़ लिया जाएगा ।