RIG Breaking : पुत्र ने किया पिता की हत्या… सिर पर पत्थर मार कर उतारा मौत के घाट.. आरोपी पुत्र पुलिस हिरासत में…!! शराबी व्यक्ति की बरभांठा के उरांव मोहल्ला में मिली लाश..!! पढ़े पूरी खबर..

रायगढ़। जिले के तमनार थाना क्षेत्र से एक बड़ी घटना निकलकर आ रही है। डोलेसारा पंचायत के ग्राम कठरापाली गांव में सुबह-सुबह घर के सामने में ललित रात्रे की शव देखकर गांव में सनसनी फैल गई।

Advertisement

तमनार थाना प्रभारी से मिली जानकारी अनुसार ललित रात्रे अलग से अपने घर में अकेला रहता था बेटे व परिवार वाले दुर के घर में रहते थे। घटना की रिपोर्ट मृतक के बेटे ने सुबह तमनार थाना जाकर दर्ज कराई जिसके पश्चात तमनार थाना प्रभारी अभिनवकांत सिंह ,एएसआई एसके दुबे आरक्षक बलराम साहू घटनास्थल पहुंचकर मामले की विवेचना कर रहे हैं।

साथ ही ग्रामीणों ने बताया की मृतक शराब पीकर अक्सर हुडदंग बाजी करते हुए लोगों को परेशान किया करता था ।मृतक का नाम ललित रात्रे पिता खेमसिंह रात्रे उम्र 48 वर्ष है । वहीं पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मृतक के बेटे ने अपने पिता को पत्थर से कुचल कर मारने की अपराध कबुल की है । जिसका नाम मोहन रात्रे पिता ललित रात्रे 26 वर्ष है जिसे तमनार थाना लेजाकर पुछ ताछ किया जा रहा है ।

उक्त घटना में और भी आरोपी होने की आशंका जताई जा रही है ।मृतक का मोबाइल कुछ दुर पर बांस की झाडी में मिली वहीं घटना में उपयोग पत्थर को पास ही के कुंए में फेंके जाने की आसंका जताई जा रही फिलहाल कुंए के पानी को खाली कराया जा रहा ।

तमनार थाना क्षेत्र से एक और घटना सामने आ रही है जहां अक्सर शराब पीकर घूमने वाले 38 वर्षीय व्यक्ति संजय पटनायक का शव बरभाठा चौक उरांव मोहल्ला में मिली है शव को हिरासत में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है मृतक अक्सर शराब पीकर तमनार के विभिन्न क्षेत्रों में घूमा करता था ।

वर्सन

तमनार थाना अंतर्गत कठरापाली में पुत्र द्वारा पिता की हत्या की घटना को कबूल किया गया है , तमनार पुलिस आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है, पूछताछ के पश्चात ही और कुछ बता पाना संभव होगा।

सुशील नायक
एस डी ओ पी धरमजयगढ़

तमनार ब्लॉक औधोगिक ब्लॉक है जहां आए दिन छोटी बडी घटनाएं होती रहती है। घायलों को तो डायल 112या 108 की मदद मिल ही जाती है जिससे कई लोगों की जिंदगी बच जाती है ।लेकिन यदि किसी की एक्सीडेंट में या हत्या से मौत हो गई तो उसके परिजनों के लिए आफत की पहाड़ टुट पडती है क्योंकि मृत्यु हो जानें के पश्चात गाडी मुहईया नहीं हो पाती है परिजनों को दर दर की ठोकरें खानी पढती है , तो कभी ट्रैक्टर की सहायता से पोस्टमार्टम के लिए तमनार लाया जाता है । शव वाहन तो तमनार में है लेकेन वो केवल तमनार से घर तक पहुंचाती है शव को तमनार लाती नहीं है ।यदि उद्योगों की सहायता से एक शव वाहन तमनार थाना में प्रबंध हो जाती तो मृतकों के परिजनों काफी समस्या कम हो जाती।