RIG Breaking: रंगे हाथ घूस लेते हुए पकड़ा गया सरकारी दफ्तर का बाबू ! एंटी करप्शन ब्यूरो की कार्यवाही ! रिश्वतखोरी के लिए अपने ही विभाग के कर्मचारी को नहीं बख्शा आरोपी लिपिक ने.. जानिए पूरा मामला

  • News Desk 

जांजगीर चांपा। सरकारी तंत्र में रिश्वतखोरी जैसे कई मामले सुनने को आते हैं। ऐसा ही एक मामला जांजगीर-चांपा जिले से आया है। यहां पर एसीबी की टीम ने छापामार कार्यवाही कर 2500 रु की रिश्वत लेते कार्यालय उप संचालक पशु चिकित्सा सेवा का लिपिक रंगे हाथों पकड़ाया।

Advertisement

रिश्वतखोरी के मामले में आरोपी लिपिक ने अपने विभाग के कर्मचारी तक को नहीं बख्शा। दरअसल विभाग में कार्यरत प्यून पत्नी की तबीयत कुछ दिनों से खराब चल रही थी। जिसके इलाज के लिए उसे पैसे की जरूरत थी। इसलिए उसने अपने जीपीएफ से ₹100000 इलाज के लिए निकालना चाह रहा था। लेकिन विभाग में कार्यरत लिपिक दीपक यादव के द्वारा उसे बार-बार घुमाया जा रहा था। अंततः उसने ₹5000 की रिश्वत के रूप में डिमांड की। आज आरोपी लिपिक में रिश्वत की आधी रकम ढाई हजार रुपए एडवांस के रूप में मांगा था।

पीड़ित टीम ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो से की थी। एसीबी की टीम वहां पहले से नजर गड़ाए हुए थी। जैसे ही चपरासी ने लिपिक को पैसे दिए उसे रंगे हाथ पकड़ लिया गया। खबर लिखे जाने तक एसीबी की टीम आरोपी लिपिक के ऊपर कार्यवाही कर रही है।