RIG Breaking : 19 वर्षीय युवती को प्रेम जाल में फंसा कर भगा ले गया था युवक…! कोरबा में होने की मिली खबर..! लौटते समय परिजन ने जंगल में युवक को पीट-पीटकर उतारा मौत के घाट..! हत्या के बाद दो आरोपी ने किया सरेंडर..! अन्य दो आरोपियों की तलाश जारी..! भूपदेवपुर थाना क्षेत्र की घटना…

3,816 views

रायगढ़। भूपदेवपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत एक युवक की हत्या का मामला सामने आया है। हत्या के मामले में पुलिस ने अभी दो आरोपियों को गिरफ्तार कर दो अन्य आरोपियों की पतासाजी में जुटी हुई है। युवक की हत्या की वजह यह था कि मृतक ने हत्या करने वाले आरोपियों के घर की बेटी को भगा कर ले गया था जिसके कारण लड़की के परिजन गुस्से में थे और गुस्सा में वे युवक को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिए और शव को वहीं छोड़कर घर भाग आए। कल युवक की हत्या करने की बात गांव के प्रमुख सरपंच को बताया और दोनों आरोपियों ने थाने में खुद को सरेंडर कर दिया।

थाना प्रभारी उत्तम साहू से मिली जानकारी के अनुसार मृतक तांत्रिक छोटेलाल सारथी ने एक 19 वर्षीय युवती को प्रेम जाल में फंसा कर भगा ले गया था। परिवार की लड़की को भगा कर ले जाने से लड़की के परिजन वाले गुस्से में थे। परिवार की बेटी को भगा ले जाने से भड़के परिजन ने तांत्रिक छोटेलाल सारथी की हत्या कर शव भूपदेवपुर क्षेत्र के जबलपुर जंगल में छिपा दिए।

हत्या कर दिए जाने की सूचना हत्यारे कन्हैया राठिया और टीकम राठिया ने कल सुबह ग्राम सरपंच को दी जिसके बाद सरपंच ने घटना कि जानकारी भूपदेवपुर पुलिस दिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को लेकर शव को लाने के लिए जबलपुर के जंगल पहुंची जहां कांफी खोजबीन के बाद युवक की लाश मिली।

पुलिस के पूछताछ की तो आरोपियों ने बताया कि तेंदूडीपा निवासी 19 वर्षीय युवती को पतरापाली निवासी तांत्रिक छोटेलाल सारथी (35) प्रेमजाल में फंसा भगा ले गया था। सोमवार को कोरबा के सलिहांभाठा गांव से लेकर आ रहे थे। युवती और उसके माता-पिता स्कार्पियो में थे। बाकी रिश्तेदार छोटे लाल को बाइक से लेकर आ रहे थे। जबलपुर गांव के पास आरोपियों ने स्कार्पियो को आगे भेज दिया और तांत्रिक छोटेलाल सारथी को जंगल की ओर ले गए। जहां डंडों से पीट-पीट उसकी हत्या कर दिए और शव को पत्तों से ढका और लौट आए। आरोपियों ने अभी तक के पूछताछ में बताया है कि उन्होंने लड़की के चाचा कन्हैया राठिया, लड़की के बड़े पिता का लड़का टीकम राठिया,लड़की का फूफा लक्ष्मी प्रसाद और लड़की के बुआ का लड़का कन्हैया जो मृतक को दो बाइकों में बैठा कर जंगल के अंदर ले गए और पिट पिट कर उसकी हत्या कर वहां से घर लौट आये।

क्या स्कार्पियो में बैठे अन्य लोग भी हत्या में थे शामिल..?

भूपदेवपुर पुलिस के लिए अभी भी यह जांच का विषय बना हुआ है कि क्या स्कार्पियो में बैठे अन्य लोग भी हत्या में शामिल थे या फिर बाइक में लेजाने वाले आरोपी ही हत्या को वारदात को अंजाम दिए। फिलहाल अभी परिजनों को थाने में बुलाकर पूछताछ की जाएगी मामला अभी भी पूर्ण रूप से स्पष्ट नहीं हो पाया है।

2 जून को थाने में दर्ज हुई थी गुमशुदगी की रिपोर्ट


युवती 27 मई की शाम घर से बिना बताए युवक के साथ चली गई थी। इसके बाद से लगातार युवती के परिजन खोजबीन में लगे हुए थे। इसके बाद 2 जून को परिजन ने भूपदेवपुर थाने में युवती की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। इसके बाद युवती के कोरबा में होने का पता चला। परिवार 7 जून को युवती को घर लेकर आया लेकिन इससे पहले रास्ते में तांत्रिक की हत्या कर दी।

10 साल से दोनों परिवारों के बीच थे अच्छे संबंध-


आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि 10 सालों से मृतक का उनके घर में आना-जाना था। युवती उसके सामने ही बड़ी हुई। बावजूद आरोपी भरोसा तोड़ा। यही बात उन्हें बार-बार खल रही थी। इस कारण युवती के परिजन ने मिलकर तांत्रिक को रास्ते में सबक सिखाने का सोचकर उतारा। आक्रोश में आरोपियों ने अपनी हदें पार करते हुए डंडों से पीट-पीट तांत्रिक की हत्या ही कर दी।