Financial newsLoans

Personal Loan : पर्सनल लोन लेने से पहले जान ले उसमें लगने वाले चार्जर, नहीं तो पड़ सकते हैं आप मुसीबत में!

फाइनेंस कंपनियां, Bank, या लोन देने वाली ऑनलाइन एप्लीकेशन द्वारा आसानी से पर्सनल लोन दे दिए जाते हैं। लेकिन हमें उस लोन पर लगने वाले चार्जर्स के बारे में पूरी तरह से पता नहीं रहता है जिसकी वजह से हम कई बार मुसीबत का सामना करते हैं। इस मुसीबत से बचने के लिए अच्छा उपाय है कि पर्सनल लोन लेने से पहले आप इन में लगने वाले चार्जर्स के बारे में अच्छी तरह से जान ले। आज की लेख में हम आपको पर्सनल लोन पर लगने वाले शुल्क के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं।

ब्याज दरें: जब भी आप किसी बैंक या फाइनेंस कंपनी से पर्सनल लोन लेते हैं तो बैंक द्वारा आपको एक निश्चित ब्याज दर पर Personal Loan दिया जाता है। अलग-अलग बैंक पर आपको अलग-अलग ब्याज देने पड़ सकते हैं। सामान्यतः बैंकों द्वारा 10.99% से 24% के बीच ही पर्सनल लोन पर ब्याज दर लगते हैं। कभी-कभी नॉन सैलरी पर्सन को अधिक ब्याज दर देना पड़ जाता है।

जीएसटी (GST): सरकार के द्वारा बनाए नियम के अनुसार आप हर चीज पर आपको जीएसटी फीस लगती है ऐसे ही पर्सनल लोन पर भी आपको 18% जीएसटी देना पड़ता है। यह जीएसटी आपको प्रोसेसिंग फीस, प्रीपेमेंट और पार्ट-पेमेंट चार्जेज, रीपेमेंट मोड स्वैप चार्जेज, कैंसिलेशन चार्जेज, मिस्ड रिपेमेंट चार्जेज, डुप्लीकेट स्टेटमेंट इशुएंस चार्जेज जैसी सर्विस पर देने पड़ते हैं। आपको बता दें कि पर्सनल लोन के इंटरेस्ट रेट पर किसी भी तरह के जीएसटी नहीं लगती है।

प्रोसेसिंग फीस व रिपेमेंट चार्ज: बैंकों द्वारा Personal Loan लेने पर आपको प्रोसेसिंग फीस पे करना पड़ता है यह प्रोसेसिंग फीस नॉन रिफंडेबल होता है यह पर्सनल लोन की कैंसिल होने की स्थिति में आप को किसी भी तरह से वापस नहीं किया जाता है। यह प्रोसेसिंग फीस लोन अमाउंट के साथ 18 प्रतिशत जीएसटी के 0.5 से लेकर 3 प्रतिशत तक हो सकता है। साथ ही यदि आप लॉक इन पीरियड से पहले लोन अमाउंट रिपेमेंट करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको प्रीपेमेंट चार्ज आउटस्टैंडिंग बैलेंस के साथ 18 प्रतिशत जीएसटी का 5 प्रतिशत तक लग सकता है।

रीपेमेंट मोड स्वैपिंग चार्ज: यदि आप लिए गए Personal Loan के रीपेमेंट को स्वैपिंग कराना चाहते हैं तो बैंकों द्वारा इसके लिए आप से चार्ज लिया जाता है। जब भी आप रीपेमेंट स्वैपिंग कराते हैं तो हर बार आपसे ₹500 के साथ 18% जीएसटी चार्ज लिया जाता है।

लोन कैंसिलेशन चार्ज: यदि आप पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते हैं और वह अप्रूव हो जाता है या डिस्बर्सल हो गया है। इसके बाद आप Personal Loan को कैंसिल कर आते हैं तो इसके लिए आपको चार्ज देना पड़ता है। कई बैंक 3000 के साथ 18% जीएसटी का चार्ज लगाते हैं। तो वही कई बैंक कैंसिलेशन के दौरान लगे इंटरेस्ट पेमेंट को ही चार्ज करते हैं और प्रोसेसिंग फीस भी वापस नहीं करते।

Back to top button