1 दिसंबर से बदल जायेगा बैंक ट्रांजेक्शन का यह नियम; जानिए विस्तार से

2,268 views

नई दिल्ली. साल के आखिरी महीने यानी दिसंबर से आपका बैंक पैसों के लेन-देन से जुड़े इस नियम बदलाव करने जा रहा है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) को 24x7x365 उपलब्ध करने का ऐलान किया था. यह फैसला दिसंबर 2020 से लागू होगा. मतलब सीधा है कि अब आप RTGS के माध्यम से चौबीसों घंटे मनी ट्रांसफर कर सकेंगे. वर्तमान में RTGS सिस्टम महीने के दूसरे और चौथे शनिवार को छोड़कर हफ्ते के सभी कामकाजी दिनों में सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक उपलब्ध होता है.

पिछले साल NEFT को 24 घंटे उपलब्ध किया गया था
इससे पहले पिछले साल दिसंबर में नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) सिस्टम को 24x7x365 उपलब्ध कराया गया था.

आरबीआई ने अपनी पॉलिसी में कहा कि उस समय से सिस्टम सुचारू रूप से काम कर रहा है. केंद्रीय बैंक के मुताबिक, भारतीय वित्तीय बाजारों के वैश्विक एकीकरण के लक्ष्य को समर्थन देने के लिए चल रहे कामों को समर्थन देने, भारत के अंतरराष्ट्रीय वित्तीय केंद्रों को विकसित करने की कोशिशों और घरेलू कॉरपोरेट और संस्थानों के लिए बड़े स्तर पर भुगतान की फ्लैक्सिबिटी उपलब्ध कराने के लिए यह फैसला किया गया है.

बड़े काम की है RTGS सर्विस
RTGS यानी रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट के जरिए तुरंत फंड ट्रांसफर किया जा सकता है. यह बड़े ट्रांजेक्शंस में काम आता है. RTGS के जरिए 2 लाख रुपये से कम अमाउंट ट्रांसफर नहीं हो सकता है. इसे ऑनलाइन और बैंक ब्रांच दोनों माध्यमों से इस्तेमाल किया जा सकता है. इसमें भी किसी तरह का फंड ट्रांसफर शुल्क नहीं हैं. लेकिन ब्रांच में RTGS से फंड ट्रांसफर कराने पर शुल्क देना होगा.

बता दें कि रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अध्यक्षता वाली 6 सदस्यों वाली मॉनेटरी पॉलिसी कमिटी ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं करने का फैसला किया है. रेपो रेट 4% पर बरकरार है.

क्या है NEFT
नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (NEFT) एक इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट मोड है. इसमें एक अकाउंट से दूसरे अकाउंट में पैसों का लेनदेन किया जाता है. इंटरनेट बैंकिंग के जरिए इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं. साथ ही बैंक जाकर भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. NEFT के जरिए कुछ ही समय में फंड ट्रांसफर हो जाता है. इसमें फंड ट्रांसफर के लिए कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं देना पड़ता है. लेकिन ब्रांच से NEFT कराने की प्रकिया में शुल्क देना होता है. यह सुविधा 24X7 चालू रहती है.