घरेलू विवाद के बाद पत्नी से मारपीट करना पति को पड़ा भारी..मौत के घाट उतार कर शव को फेंका डेम में..पढ़े पूरी खबर..

1,580 views

राजनांदगांव। जिले के मोहगांव थाना क्षेत्र के ग्राम पैलीमेटा में घरेलू विवाद के बाद पत्नी से मारपीट करना पति को भारी पड़ गया। महिला ने अपने भाई को बुलाकर अपने ही पति को मौत के घाट उतार कर शव को पैलीमेटा डेम में फेंक दिया था। पुलिस को गुमराह करने गुमशुदगी और आत्महत्या से मनगढ़ंत कहानी बताई जा रही थी, लेकिन कड़ाई से पूछताछ में आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल लिया है। आरोपियों के खिलाफ 302, 201, 34 के तहत कार्रवाई की गई।

डैम में मिली थी पति की लाश
पैलिमेटा निवासी 35 वर्षीय धमकौर सिंह सन्यू की सड़ी-गली लाश पैलीमेटा डेम में मिली थी। पत्नी निशा कौर ने पति के गुम होने की सूचना 3 नवंबर को पुलिस में दर्ज कराई थी। पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी थी। पत्नी व ससुराल वालों से पूछताछ की गई तो वे गुमशुदा, अपहरण तथा आत्महत्या करने संबंधी दिगभ्रमित करने वाली बाते बताने लगे।

पत्नी से पुलिस ने की कड़ी पूछताछ
पत्नी और ससुराल वालों के कॉल डिटेल के आधार पर लगातार दो दिनों की कड़ी पूछताछ पर निशा कौर ने अपने पति धमकौर सिंह की 31 अक्टूबर की रात्रि अपने भाई जशब्बीर सोनी द्वारा चाकू मार कर हत्या कर शव को पैलीमेटा डेम में फेंकना बताई, जिसकी तस्दीक के लिए गोताखोर टीम तलब कर 5 नवंबर को गोताखोर टीम की सहायता से गुमशुदा का शव बरामद किया गया, जिसे चादर में लपेट कर दो बड़े वजनी पत्थरों के साथ बांध में फेंका गया था, प्रार्थी द्वारा शव की पहचान चादर व पहने हुए कड़े से की गई।

पेट्रोल डालकर शव को जलाया
आरोपी द्वारा शव को पन्नी में लपेटकर टाटा मैजिक में लेजाकर मगरकुण्ड के पास पेट्रोल डालकर जलाया गया, फिर 2 नवंबर को अपनी बहन को चादर लेकर रात्रि में उक्त शव को पैलीमेटा बांध में फेंकना बताया। प्रकरण में आरोपी गण जशबीर सोनी व निशाकौर के विरूद्ध अपराध कमांक धारा 302, 201, 34 भादवि के तहत कार्रवाई की जा रही है।

प्रकरण में इस्तेमाल किए गए सामाग्री घटना में प्रयुक्त शव के साथ बंधा पत्थर, आरोपीयान के खून सनी कपड़े, शव जला स्थान से पेट्रोल का डब्बा, माचीस प्लास्टिक पाइप एवं अन्य सामान जब्त किए गए हैं। इस हत्या की गुत्थी को सुलझाने में थाना प्रभारी गंडई निरीक्षक सुषमा, उप निरी. मोलासिंह राजपूत, सउनि महेन्द यादव आर. यशवंत साहू, आर. अर्जुन वर्मा, आरक्षक राकेश सोनी, लकेश्वर पटेल की महत्वपूर्ण भूमिका रही।