Information

E Sharm Card: अबUP के ही नहीं हर राज्य के श्रमिकों के खाते में आएंगे हर महीने ₹1000, जानिए कैसे होगा रजिस्ट्रेशन और क्या है? लास्ट डेट..?

E- shram card: सरकार समय-समय पर श्रमिकों के लिए उनके विकास और जीवनशैली सुधारने के लिए नए-नए योजनाएं लाते रहती है तथा उनसे उनको फायदा भी पहुंचता है।

लेकिन सरकार के इन योजनाओं का लाभ सभी को नहीं मिल पाता कुछ प्रतिशत लोगों या परिवार को ही इन योजनाओं का लाभ मिल पाता है। इसलिए गवर्नमेंट ने एक नई योजना ई श्रम पोर्टल (E- shram portal) शुरू की ताकि देशभर के सभी मजदूरों का एक नेशनल डाटाबेस तैयार किया जाए तथा उन तक सभी योजनाओं के लाभ व सरकार की मदद सीधे पहुंचाई जाए।

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिसंबर में घोषणा की थी, की सभी को भरण-पोषण भत्ता हर महीने 1000 श्रमिकों के खाते में दिए जाएंगे। जिन्होंने ई श्रम पोर्टल (E- shram portal) में रजिस्ट्रेशन कराया है,और उन्होंने नए साल 1 जनवरी 2022 को ही श्रमिकों के खाते में 1000 रुपये भेज भी दिए। लेकिन ऐसी किसी भी प्रकार की भरण-पोषण भत्ता दूसरे राज्यों के श्रमिकों को नहीं मिल रही थी। लेकिन अब दूसरे राज्यों फिर चाहे वह दिल्ली हो महाराष्ट्र हो राजस्थान हो उत्तराखंड हो या देश का कोई भी राज्य हो उनके भी श्रमिकों को जिन्होंने ईश्रम पोर्टल में रजिस्ट्रेशन करवा लिया है। उनको 1000 या उससे अधिक राशि भरण पोषण भत्ते के रूप में हर महीने दिया जाएगा। आपको बता दें कि अभी तक यह बात सुनिश्चित नहीं हुई है कि भरण-पोषण भत्ता कब और कितना दिया जाएगा।

श्रम पोर्टल (E- shram portal) में कैसे कराएं रजिस्ट्रेशन..?

सबसे पहले आप अपने नजदीकी पब्लिक सर्विस सेंटर में जाए व उन्हें अपना डिटेल जैसे नाम पता आधार कार्ड मोबाइल नंबर व बैंक अकाउंट।

उसके बाद ऑपरेटर ही श्रम पोर्टल के आधिकारिक वेबसाइट https://register.eshram.gov.in जाकर आपका रजिस्ट्रेशन कर देगा।

उसके बाद आपको आपका श्रम कार्ड ( shram card) कुछ ही दिनों में मिल जाएगा।

श्रम पोर्टल में रजिस्ट्रेशन कराने का लास्ट डेट..?

ई श्रम गवर्नमेंट की योजनाओं में से एक है, जिसका उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर असंगठित वर्ग के मजदूरों की सहायता करना है। जिसके रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया अभी चल रही है एवं अभी तक इस के अंतिम तारीख की किसी भी तरह की जानकारी नहीं मिली है, ना ही गवर्नमेंट की तरफ से ऐसा कोई दिन या तारीख जारी किया गया है।

Sponsored by
Back to top button
Enable News Updates    OK No thanks