Newsरायगढ़

कई राज्यों में चोरी की घटनाओं को अंजाम देने वाला बांग्लादेशी गिरोह ! रायगढ़ पुलिस की गिरफ्त में…!!

कई राज्यों में चोरी की घटनाओं को अंजाम देने वाला बांग्लादेशी गिरोह #रायगढ़ पुलिस की गिरफ्त में*…..

  • पुलिस से बचने भारत-बांग्लादेश की सीमा के आखरी गांव पर आरोपीगण बना रखे हैं अपना ठिकाना*…..
  • महिला समेत गिरोह के तीन आरोपी गिरफ्तार, जिले के 4 चोरियों का खुलासा
  • आरोपियों से भारी मात्रा में सोना, चांदी तथा नगदी रकम बरामद
  • मजदूर, फेरीवाले बनकर रुकना रेकी करना फिर वेश बदलकर चोरियों को अंजाम देने में माहिर सभी आरोपी

गिरफ्तार आरोपी 

  • मिलोन मंडल पिता मुजामिल मंडल उम्र 36 साल
  • मिलन शेख पिता अब्दुल हलीम शेख उम्र 22 साल
  • छबिकुन नहर बिबी मण्डल पति स्व. हलीम मंडल उम्र 38 साल
  • तीनों का स्थायी पता मध्यरामकृष्णपुुर थाना कुमारगंज जिला दक्षिण दिनाजपुर (पश्चिम बंगाल)
  • फरार आरोपी–  मोहम्मद खालिद, अफसर मण्डल और छोटू ख़ान (वास्तविक नाम नहीं) 
  • जप्त सम्पत्ति  सोना- 91.25 ग्राम (कीमत 5 लाख), चांदी- 1.127 ग्राम कीमत ₹70,000 और नकद रूपये- 7,35,880 रूपये।
  • कुल जुमला – 13,05,880 रूपये

रायगढ़। विगत करीब डेढ़ माह से जिले के रिहायशी इलाकों के साथ कॉलोनियों में सुनियोजित तरीके से अज्ञात चोर सूने मकानों में  चोरी को अंजाम दे रहे थे। एक के बाद एक चोरियों की बड़ी घटनाओं को एसपी अभिषेक मीना गंभीरता से लेते हुए सभी मामलों की स्वयं समीक्षा कर एडिशनल एसपी लखन पटले के नेतृत्व में सीएसपी दीपक मिश्रा, साइबर सेल और जिले के विभिन्न थाना के प्रभारी व स्टाफ की संयुक्त टीम बनाया गया जिन्हें अलग- अलग जिम्मेदारी सौंपा गया। एडिशनल एसपी एवं सीएसपी रायगढ़ के सुपरविजन में पुलिस टीम मामले की पतासाजी में जुटकर सभी चोरियों के करीब 150-200 सीसीटीवी फुटेज खंगाले जिनमें कई संदिग्ध के फोटो भी मिले जिन्हें मुखबिर तथा पूर्व के चोरी, लूट में शामिल आरोपियों को दिखाकर पहचान कराया गया।

गिरफ्तार आरोपी

लोकल लोग भी फुटेज देखकर संदिग्ध को नहीं पहचान पाए। पुलिस को अंदेशा हुआ कि जरूर ही कोई बाहरी गिरोह चोरी में शामिल है। इसी बीच साइबर सेल की टीम को सिलसिलेवार चोरियों में एक कॉमन लिंक मिला, जांच में लगी अन्य टीम की जानकारी भी उसी लिंक पर मेल हुआ। जिसके बाद टेक्निकल एनालिसिस के आधार पर संदिग्धों का लोकेशन पुलिस टीम को मिला। जिसके आधार पर जूटमिल प्रभारी निरीक्षक हर्षवर्धन सिंह बैस और सरिया थाना प्रभारी उपनिरीक्षक कमल किशोर पटेल के नेतृत्व में दो अलग-अलग टीमें पश्चिम बंगाल की ओर रवाना किया गया। लगभग 1 सप्ताह के अथक प्रयास पर रायगढ़ पुलिस की टीम आरोपियों के ठिकाने थाना कुमारगंज डिस्ट्रिक्ट दक्षिण दिनाजपुर पश्चिम बंगाल में रेड किया गया। जहां एक महिला (छबिकुन नहर बिबी मण्डल) मिली। जिससे कड़ी पूछताछ में जानकारी हुआ कि आरोपीगण उड़ीसा तथा छत्तीसगढ़ के कई जिलों में जाकर रुकते हैं। अक्सर यह काम धंधे के बहाने ऐसे स्थानों में रुकते हैं। जहां आम लोगों का आना जाना कम हो। ये लोग कबाड़ बीनने फेरी करने, सफाई का काम, एसी सुधारने जैसे काम कर लोगों को अपना परिचय दिया करते थे और मौका देखकर चोरी की वारदातों को अंजाम दे रहे थे। इनके गिरोह का सरगना मोहम्मद खालिद है जो अपने साथियों के साथ हर जिले में नए वेशभूषा के साथ रुकता और अपराध को अंजाम देता था । इनकी टीम भारत-बांग्लादेश के अंतिम सीमा में बसे गांव को अपना ठिकाना बनाकर रखे हुए थे यहां वह चोरी के माल को बांग्लादेश तथा पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों में खपा रहे थे । आरोपीगण चोरी की संपत्ति से कई बहुमूल्य जमीनों की खरीदी मकानों की खरीदी की जानकारी पुलिस को मिली है और यह अक्सर चोरी की गाड़ी का प्रयोग कर रहे थे । जूटमिल के पार्क सिटी में चोरी में भी आरोपियों द्वारा जिस मोटरसाइकिल का उपयोग किया गया है पुलिस की जांच में उसके पामगढ़ जिला जांजगीर चांपा क्षेत्र में चोरी की जानकारी मिली है आरोपियों में तीन फरार हैं जिनकी पहचान पुलिस को मिल चुकी है । अन्य जिलों की पुलिस से जिले की पुलिस संपर्क में है जिनकी शीघ्र धरपकड़ किया जावेगा ।

इन अपराधों का खुलासा

(1)  चौकी जूटमिल क्षेत्र के पार्क सिटी उडीसा रोड में दिनांक 16-17/07/2022 को  चोरी।
(2) कोतरारोड़ क्षेत्र के कृष्ण विहार में दिनांक 03-04/07/2022 को चोरी ।
(3) चक्रधरनगर के केलोबिहार में दिनांक 24/06/2022 को चोरी ।
(4) चक्रधरनगर के मालीडिपा में दिनांक 11-12/07/2022 को चोरी ।

*आरोपियों का खुलासा*-

                छत्तीसगढ़ आने पर सांगीतराई-तुर्कमुड़ा में घर किराये पर लिये  था जहां पर हम सभी रहते थे । रायगढ़ के बड़ी-बड़ी कालोनियों की रेकी कर चिन्हांकित करके रात में उसमें चोरी किया करते थे । सबसे पहले चक्रधरनगर में केलो विहार में 23-24/06/22 की दरमियानी रात को एक राय होकर मोहम्मद खालिद, मिलन शेख, छोटू खान मिलकर चोरी किये जिसमें चांदी का पाजेब, चांदी का छल्ला, बिछिया, पायल, चांदी का सिक्का एवं सोने के आभुषण तथा नकदी रकम मिला था । इसके बाद दिनांक 03-04/07/22 की दरमियानी रात को कृष्णाविहार कालोनी में एक सूने मकान में सेंट्रल लॉक को तोड़कर घर में घुसकर सोने, चांदी के आभुषण तथा पूजा की थाल, एवं चांदी के सिक्के चोरी किये कि इसके बाद दिनांक 11-12/07/22 की दरमियानी रात्रि को अफसर मण्डल, मोहम्मद खालिद, मिलन शेख, के साथ मिलकर बोईरदादर मालीडीपा के एक सूने मकान का ताला तोड़कर जेवरातों की चोरी और दिनांक 16-17/07/22 की दरमियानी रात को फिर हम लोग पार्क सिटी कालोनी में भी मोहम्मद खालिद, मिलन शेख एवं छोटू खान शामिल थे । पार्क सिटी में चोरी के बाद सभी अफसर मंडल के घर गये, जहां चोरी के माल का आपस में बटवारा किये। अफसर मंडल अपनी बहु छबिकुन नहर बिबी मण्डल के पास अपना कुछ हिस्सा रखा था । पुलिस टीम आरोपिया छबिकुन नहर बिबी मण्डल तथा आरोपी मिलन शेख और मिलोन मंडल के पास से मशरूका की बरामदगीकिया गया है । छबिकुन नहर बिबी मण्डल माल बेचने में भी सहयोग करती थी । मोहम्मद खालिद के गैंग का मास्टर मांइड है ।

एडिशनल एसपी लखन पटले, सीएसपी एसपी दीपक मिश्रा के सुपरविजन में बनाई गई टीम में चौकी प्रभारी जूटमिल निरीक्षक हर्षवर्धन सिंह बैस, भूपदेवपुर थाना प्रभारी निरीक्षक अमित शुक्ला, थाना प्रभारी सरिया उपनिरीक्षक कमल किशोर पटेल, साइबर सेल प्रभारी राजेश पटेल, दुर्गेश सिंह, प्रशांत पंडा, धनंजय कश्यप, बृज लाल गुर्जर, मेनका चौहान तथा विभिन्न थाना/चौकी के उप निरीक्षक रामस्वरूप नेताम, सहायक उपनिरीक्षक प्रकाश नारायण पांडे, प्रधान आरक्षक सतीश पाठक, प्रधान आरक्षक आरक्षक दिलदार कुरैशी, विक्कू सिंह, विक्रम सिंह, विनय तिवारी, ओशनिक विश्वाल, धनुर्जय बेहरा, बनारसी सिदार, सत्या यादव, मुकेश साहू, महेश पंडा, प्रकाश गिरी, अभिषेक द्विवेदी, गोविंद पटेल, मनोज पटनायक, जितेन्द्र दुबे शामिल थे ।

Back to top button