बिलासपुर

Bilaspur: धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का मामला… हाई कोर्ट ने दिया बड़ा फैसला!!

Bilaspur: छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर हुई। जिसमें धर्म परिवर्तन कर निकाह करने का मामला सामने आया। जिस पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने बड़ा फैसला दिया है। पूरे मामले में युवती ने हिंदू धर्म से मुस्लिम धर्म परिवर्तन कर एक मुस्लिम युवक से निकाह किया।

जिसके बाद उस युवती के पिता ने थाने में जाकर ऑब्जेक्शन किया। जिस पर युवती के मुस्लिम पति ने हाई कोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर कर दी। अब हाईकोर्ट ने इस याचिका पर बड़ा फैसला दिया है।कोर्ट ने सुरक्षा के साथ युवती को उसके पति के पास भेजने का आदेश दिया है।पूरे मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस अरुप कुमार गोस्वामी व जस्टिस गौतम चौरड़िया की डिवीजन बैंच ने की है।

पूरा मामला

महासमुंद जिले के बसना में रहने वाले मोहम्मद इरफान ने हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी। याचिका में कहा गया, कि हिंदू लड़की ने खुद की सहमति से 2021 में धर्म परिवर्तन करा मुस्लिम धर्म की रीति रिवाज से निकाह किया, जिसके बाद लड़की के पिता ने थाने में शिकायत कर दी। इसे सांप्रदायिक रूप देकर विवाद बढ़ाया गया। याचिकाकर्ता ने कोर्ट से अपनी पत्नी को वापस दिलाने की मांग की थी।

जानकारी के मुताबिक याचिकाकर्ता इरफान पहले से ही शादीशुदा है, उसके दो बच्चे भी हैं। पति-पत्नी में विवाद के बाद वे अलग रह रहे हैं। इस दौरान इरफान का एक हिंदू लड़की से प्रेम प्रसंग हो गया और दोनों ने शादी कर ली, इधर लड़की के पिता ने बसना थाने में शिकायत दर्ज करा दी। मामले की सुनवाई के दौरान युवती ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में अपना पक्ष रखा, उसने कोर्ट को बताया कि वह बिना किसी दबाव के अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन कर शादी की है और वह अपने पति के साथ रहना चाहती है। दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने फैसला सुनाया है।

Back to top button