Chhatisgarh

CG News : नाम के अनुसार कर दिखाया काम ! 13 वर्षीय शौर्य ने बचाई 6 लोगों की जिंदगी ! 26 जनवरी को राज्य वीरता पुरस्कार से होगा सम्मानित ! जानें, मौत के मुंह में जाने से पहले कैसे बचाई जान…पढ़ें पूरी खबर

छत्तीसगढ़ (CG News). धमतरी जिले के 13 वर्षीय बालक को आने वाले 26 जनवरी के दिन राज्य वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। बेहद कम उम्र में शौर्य प्रताप चंद्राकर ने अपने नाम के अनुरूप साहसीक व सूझबूझभरा कार्य करते हुए 6 लोगों को मौत के मुंह में जाने से पहले बचा लिया।

दरअसल 13 जून 2021 को धमतरी के ग्राम सेंधवा निवासी 13 वर्षीय बालक शौर्य प्रताप चंद्राकर अपने पिता भूषण चंद्राकर के साथ खेत देखने गए थे। तभी अचानक खेत के ऊपर से गुजरे एक हाईटेंशन तार टूटकर बबूल के टहनी पर गिर गया। देखते ही देखते पेड़ के उस डंगाल पर आग लग गई। कुछ देर बाद टहनी से टूटा हुआ तार नीचे खेत में गिरने वाला था तभी खेत के मेड़ पर खड़ा होकर अपने पिता का मोबाइल पकड़े हुए शौर्य ने अपना सूझबूझ दिखाते हुए तेज आवाज लगाकर उसके पिता के साथ खेत में काम कर रहे अन्य 5 लोगों को बाहर निकालने के लिए कहा। पिता के साथ अन्य 5 लोगों सहित छह लोगों की जान बचाते हुए किसी प्रकार की अनहोनी ना हो इसलिए उसने विद्युत विभाग को भी फोन कर घटना की जानकारी दे दी। जिससे विद्युत विभाग के कर्मचारी उस क्षेत्र में प्रवाहित होने वाले विधुत आपूर्ति को बंद कर दिया।

अगर सही समय पर सौर्य खेत पर खरपतवार निकाल रहे पिता के साथ मजदूरों को आवाज नहीं लगाता तो वह खेत से बाहर नहीं आ पाते जिससे उनके साथ कोई अनहोनी हो सकती थी।

छोटी उम्र में शौर्य की बहादुरी और अदम्य साहसिक कार्य को देखते हुए कलेक्टर पीएस. एल्मा ने बालक के नाम की अनुशंसा राज्य वीरता पुरस्कार के लिए करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य कल्याण परिषद को भेजा था, जिसे महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अनिला भेड़िया की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय 11 सदस्यीय ज्यूरी ने शौर्य को राज्य वीरता पुरस्कार के लिए नामित किया है। इस तरह आधे दर्जन लोगों को जीवनदान देने वाले शौर्यप्रताप के जज्बे को सलाम करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य बाल कल्याण परिषद द्वारा आगामी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रशस्ति-पत्र एवं पुरस्कार से नवाजा जाएगा।

Sponsored by

Related Articles

Back to top button
Enable News Updates    OK No thanks