जशपुर

Jashpur News: विधायक के साथ निरीक्षण में पहुंचे आधा दर्जन लोगों द्वारा डॉक्टरों से मारपीट! सबकुछ सीसीटीवी में कैद! डॉक्टरों समेत मेडिकल टीम हड़ताल पर, FIR दर्ज… देखें वीडियो

Jashpur News: जशपुर में विधायक एवं संसदीय सचिव यूडी मींज के साथ जांच में आए आधा दर्जन लोगों के द्वारा दो डॉक्टरों के साथ मारपीट की घटना प्रकाश में आई है। घटना जशपुर जिले के दुलदुला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की की है। सारी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। घटना का सीसीटीवी फुटेज भी सोशल मीडिया में वायरल है। घटना से पीड़ित एक डॉक्टर ने बताया कि मारपीट करने वाले शराब के नशे में थे। पीड़ित दोनो डाँक्टरों ने इस्तीफा विभाग को सौंप दिया है। डॉक्टरों के साथ अस्पताल की पूरी टीम ने स्ट्राइक कर दिया है। मामला तूल पकड़ने के बाद कलेक्टर ने 4 सदस्यों की एक जांच टीम गठित की है। इसके साथ में दोनों डॉक्टरों और स्टाफ ने दोषियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज करने की मांग की। वहीं भाजपा द्वारा विधायक कलेक्टर मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। विधायक का पुतला दहन किया गया। भाजपा के जोरदार हंगामे के कारण आवेदन के 5 घंटे बाद पुलिस ने एफ आई आर दर्ज की।

आख़िर क्या हुआ था..??

जानकारी के अनुसार घटना बुधवार रात 12:45 बजे बजे की है। रात करीब 11:30 जसपुर जिला कलेक्टर रितेश अग्रवाल निरीक्षण के लिए दुलदुला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे थे। उनके बाद विधायक और संसदीय सचिव यूडी मिंज (U D MINJ) भी अपने आधा दर्जन समर्थकों के साथ निरीक्षण के लिए आए। निरीक्षण के बाद कलेक्टर और संसदीय सचिव वहां से चले गए। इसी बीच वापसी के दौरान करीब 12:45 बजे विधायक के साथ निरीक्षण में आए 5 लोगों में से कन्हैया और शुक्ला नामक व्यक्तियों का डॉ नितिन आनंद सोनवानी से विवाद हो गया। मामला को बढ़ता देख दूसरे डॉक्टर महेश्वर मालिक भी वहाँ समझाने लगे और डॉक्टर सोनवानी को अंदर आने के लिए बोला। इसी बीच जांच टीम में आये नशे में धुत काले कलर का टीशर्ट पहने एक युवक दौड़ते हुए आया और मारपीट करने लगा। पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड भी हो गई। जो भी सोशल मीडिया में वायरल है।

वीडियो: घटना का सीसीटीवी फुटेज

राजनीतिक बयान आने हुए शुरू

घटना की घोर निंदा करते हुए भाजपा के युवा नेता प्रबल प्रताप जूदेव ने कहा है कि कांग्रेस की सरकार अराजक लोगों का शासन है। आधी रात को लोगों की सेवा कर रहे डॉक्टर को असामाजिक तत्वों के द्वारा पीटा गया है।लेकिन अभी तक कार्यवाही नहीं हुई है, जब की सीसीटीवी फुटेज में सब कुछ साफ साफ दिखाई दे रहा है। जिससे यही लग रहा है कि जशपुर जिला प्रशासन अपने आप को कमजोर का राज्य से प्रमाण पत्र लेना चाहती है। वहीं भाजपा द्वारा विधायक का पुतला फूंका गया और कलेक्टर द्वारा सत्ता के दबाव में काम करने की बात कही गई। इसके लिए जमकर नारेबाजी हुई।

भाजपा का प्रदर्शन और विधायक का पुतला दहन

काम बंद कर सभी डॉक्टर पहुंचे थाना

देर रात हुई घटना के बाद डॉक्टरों में भी आक्रोश व्याप्त है। अस्पताल के सभी स्टाफ आरोपियों की गिरफ्तारी और उचित कार्रवाई की मांग को लेकर थाने पहुंच गए हैं लेकिन अभी तक मिली जानकारी के अनुसार आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज नहीं हुआ है। लेकिन अब यह सवाल उठता है की कानून के रखवाले साफ तौर पर दिख रहे सीसीटीवी फुटेज पर भी मारपीट करने वाले लोगों की पहचान नहीं कर पाई है ? या जानबूझकर सत्ताधिन पार्टी के लोगों के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कर पा रही है।

मारपीट के शिकार हुए डॉक्टर नीतीश आनंद सोनवानी के द्वारा खंड चिकित्सा अधिकारी एवं स्वास्थ्य अधिकारी को दिए गए त्यागपत्र में बताया है कि, 25 मई को वह आपातकालीन ड्यूटी में था। इसी बीच लगभग 11:30 बजे कलेक्टर और संसदीय सचिव की टीम जांच के लिए आई। जांच टीम में कुछ लोग नशे में धुत थे। नशे में धुत लोगो के द्वारा अभद्र व्यवहार एवं धक्का-मुक्की करते हुए मारपीट एवं गाली-गलौच किया गया। मारपीट की पूरी घटना हॉस्पिटल के सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड है। डॉक्टर ने बताया है कि सारे स्टाफ के सामने उससे बदतमीजी की गई, जिस वजह से वह अपमानित महसूस कर रहा है। जिससे वह अपने स्वेक्षा से त्यागपत्र देना चाहा है।

दिए गए त्यागपत्र में डॉक्टर ने पत्र को स्वीकार कर मारपीट करने वाले आरोपियों पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने की मांग की है।

मारपीट का शिकार हुए महेश्वर मानिक ने त्याग पत्र में बताया है कि वह हाट बाजार की ड्यूटी से आने के पश्चात अपने आवास में आराम कर रहा था। तभी देर रात खंड चिकित्सा अधिकारी के द्वारा उसे फोन कर अस्पताल बुलाया गया। बोला गया कि कलेक्टर सर जांच पर आए हुए हैं। जिससे वह नींद से उठ कर हॉस्पिटल पहुंचा जब अस्पताल पहुंचा तो कलेक्टर जांच में आए हुए थे। उसके पश्चात संसदीय सचिव भी निरीक्षण के लिए पहुंचे। निरीक्षण में पहुंचे कुछ लोगों के द्वारा डॉ नितिन आनंद सोनवानी से बदतमीजी की जा रही थी। मामला को बढ़ता देख डॉक्टर महेश्वर ने डॉक्टर सोनवानी को अंदर आने के लिए बोला। इसी बीच जांच टीम में आये नशे में धुत काले कलर का टीशर्ट पहने एक युवक दौड़ते हुए आया और मारपीट करने लगा। डॉक्टर ने इन पर कार्रवाई की मांग करते हुए यह भी स्पष्ट किया है कि पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में रिकॉर्ड भी हुई है।

5 घंटे बाद पुलिस ने दर्ज किया है FIR

पुलिस द्वारा इस मामले में डॉक्टरों अस्पताल कर्मचारियों के आवेदन के बाद आईपीसी की धारा 294 506 323 353 34 के तहत अपराध दर्ज किया गया। कर्मचारियों द्वारा थाने में करीब 10:00 बजे घटना की सीसीटीवी फुटेज के साथ आवेदन दिया गया था 5 घंटे बाद करीब 2:30 बजे पुलिस ने इस मामले में कन्हैया एवं अन्य के खिलाफ अपराधिक प्रकरण दर्ज किया है।

Back to top button