रायगढ़

रायगढ़: पीडीएस दुकानों से मिल रहा चावल प्लास्टिक नहीं बल्कि आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी 12 की खूबियों से युक्त है फोर्टिफाइड चावल! केंद्र ने सभी सरकारी योजनाओं में वितरण के लिए दी अनुमति! 2700 करोड़ का सालाना ख़र्च

  • पीडीएस दुकानों से मिल रहा चावल प्लास्टिक नहीं बल्कि है पौष्टिक फोर्टिफाइड चावल- खाद्य अधिकारी
  • आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी 12 की खूबियों से युक्त ये चावल एनीमिया और कुपोषण दूर करने में है अत्यंत कारगर
  • जानकारी के अभाव में फोर्टिफाइड चावल को प्लास्टिक का चावल समझ रहे हैं लोग
  • फोर्टिफाइड चावल को सामान्य चावल के साथ ही है पकाना
  • रायगढ़ सहित प्रदेश के 8 जिलों के 10.50 लाख राशन कार्डधारियों को दिया जा रहा फोर्टिफाइड चावल

रायगढ़, 8 अप्रैल 2022/ पिछले कुछ दिनों से सार्वजनिक वितरण दुकानों से प्लास्टिक के चावल दिए जाने की खबरें प्रसारित हुयी थी। इस संबंध में जिला खाद्य अधिकारी श्री जी.पी.राठिया ने जानकारी देते हुए बताया कि जिसे लोग प्लास्टिक का चावल समझ रहे हैं असल में वो सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत दिया जा रहा पौष्टिक फोर्टिफाइड चावल है। जो कि आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी 12 की खुबियों से युक्त है। योजना के शुरूआत में जनसामान्य में जानकारियों के अभाव की वजह से फोर्टिफाइड चावल को प्लास्टिक चावल समझा जा रहा था, जो कि सही नहीं है। कई जगह से ऐसी जानकारी प्राप्त हो रही है कि फोर्टिफाइड राईस कर्नल्स को अलग करके पकाया जा रहा है, जो कि उचित प्रक्रिया नहीं है।

राशन दुकान से प्राप्त फोर्टिफाइड चावल में 100:1 के अनुपात में सामान्य चावल में फोर्टिफाइड राईस कर्नल्स (एफआरके) मिला हुआ है। राशन दुकान से प्राप्त फोर्टिफाइड चावल यथास्थिति में सामान्य चावल की तरह पकाया जाना है। किसी प्रकार के दाने अलग नहीं किया जाना है। फोर्टिफाइड चावल प्लास्टिक चावल नहीं है बल्कि इसमें आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन बी 12 युक्त फोर्टिफाइड राईस कर्नल्स (एफआरके)के दाने मिलाए गये है ताकि शरीर को भरपूर मात्रा में ऊर्जा मिले एवं हितग्राही बीमारियों से दूर रह सके।

केंद्रीय कैबिनेट ने सरकारी योजनाओं में फोर्टिफाइड चावल के वितरण को दी मंजूरी

केंद्रीय कैबिनेट ने सरकारी योजनाओं में फोर्टिफाइड चावल के वितरण को मंजूरी दे दी है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी। चावल का फोर्टिफिकेशन करने में हर साल लगभग 2700 करोड़ रुपये का खर्च आएगा जिसे केंद्र सरकार वहन करेगी। इसे साल 2024 तक देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में चरणबद्ध तरीके से लागू कर दिया जाएगा।

छत्तीसगढ़ में पोषक तत्वों की कमी से होने वाले एनिमिया एवं कुपोषण जैसी बीमारियों की स्थिति को दूर करने के उद्देश्य से आयरन फोलिक एसिड, विटामिन बी 12 युक्त फोर्टिफाइड चावल का वितरण राज्य की सार्वजनिक वितरण प्रणाली में किया जा रहा है। फोर्टिफाइड चावल, सामान्य चावल के मुकाबले अधिक पौष्टिक है साथ ही इसके वितरण से कुपोषण जैसी समस्याओं में रोकथाम होगी।

केंद्र की योजनाओं एनएफएसए अंत्योदय एवं एनएफएसए प्राथमिकता एवं राज्य की योजनाओं सीजीएफएसए अंत्योदय एवं सीजीएफएसए प्राथमिकता, महतारी जतन, चावल नि:शक्तजन, चावल अन्नपूर्णा, चावल निराश्रित एकल में फोर्टिफाईड चावल का आबंटन एवं वितरण किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ में वितरण का एक्शन प्लान

फोर्टिफाइड चावल वितरण की शुरूआत करने हेतु पॉयलेट जिले के रूप में छ.ग.राज्य के कोंडागांव जिले को चिन्हांकित किया गया था एवं आगामी माहों में 10 आकांक्षी जिले (बस्तर, बीजापुर, दंतेवाड़ा, कांकेर, कोण्डागांव, नारायणपुर, सुकमा, राजनांदगांव, महासमुन्द, कोरबा) एवं 02 उच्च भार वाले जिले (रायगढ़ और कबीरधाम)में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत पूर्णत: फोर्टिफाइड चावल का वितरण प्रारंभ किया गया है। इस प्रकार वर्तमान में 08 जिलों के अंतर्गत 10.50 लाख राशनकार्डधारियों को फोर्टिफाइड चावल का वितरण किया जा रहा है। माह अप्रैल 2022 से पीडीएस के अंतर्गत सभी आकांक्षी तथा उच्च भार वाले जिलों में फोर्टिफाइड चावल का वितरण प्रारंभ किये जाने की कार्ययोजना है।

Back to top button