रायपुर

Raipur News: कारोबारी से मारपीट कर 50 लाख लूट मामला ! 10 आरोपी गिरफ्तार, दो नाबालिग भी शामिल !

Raipur News: राजधानी रायपुर के माना थान क्षेत्र अंतर्गत घर लौट रहे कारोबारी के साथ मारपीट कर 50 लाख रु लूट करने का मामला सामने आया था। जिस मामले को पुलिस ने सुलझा लिया हैं। पुलिस ने घटना में शामिल 10 लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनमें दो नाबालिग भी शामिल हैं। आरोपियों के कब्जे से ₹600000 नकदी घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल और अन्य सामग्री जप्त की गई है। वारदात 16 मई को हुई थी।

जानकारी के अनुसार डूमर तराई में अनाज व्यापारी नरेंद्र खेतपाल की दुकान है। जो अपनी दुकान से नगद रकम लेकर अपना घर टाइगर नगर लौट रहा था। इसी बीच पब्लिक स्कूल के पास बाइक पर सवार अज्ञात लुटेरे उन्हें घेर लिए।

रास्ता रोककर,मारपीट करके लूट लिए 50 लाख रुपये

लुटेरों ने अनाज व्यापारी का रास्ता रोककर लात घुसे और स्टंम्प से हमला कर दिया और स्कूटी पर टंगे पैसों से भरा बैग लेकर फरार हो गए। लूटपाट के शिकार हुए कारोबारी ने घटना के बाद इसकी जानकारी अपने बेटे कृष्ण खेतपाल को दी। फिर मामले की शिकायत माना थाने में दर्ज कराई गई। मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने मामले की पड़ताल शुरू की। पुलिस ने कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर कड़ी पूछताछ की।

आज पड़ताल के बाद 8 लुटेरे और एटीएम कार्ड से पैसा निकालने वाले दो लोग सहित 10 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। वही मामले के दो मुख्य आरोपी फरार बताए जा रहे हैं जिनकी सरगर्मी से तलाश पुलिस कर रही है।

ऐसे आरोपियों तक पहुंची पुलिस

पुलिस की अलग-अलग टीम जांच में लगी हुई थी। इसी दौरान उनको पता चला कि जहां नरेंद्र खेतपाल की दुकान है। वहीं के थोक बाजार में काम करने वाले दो अपराधिक तत्व के लोग देवेंद्र धृतलहरे और अजय उर्फ अज्जू घटना के बाद से गायब हैं। शक होने पर पुलिस ने देवेंद्र और अजय को ढूंढना शुरू किया।

जांच के दौरान पुलिस को एक और जानकारी मिली की अभनपुर के केन्द्री में रहने वाले शिव कुमार कोसले भी इस लूटपाट के कांड में शामिल है। पुलिस ने बिना समय गवाएं शिव को अभनपुर जाकर पकड़ लिया।

पुलिस पकड़ में आये शिव ने ऊगली सच्चाई

पुलिस पकड़ में आने के बाद शिव ने बताया कि लूटपाट की इस पूरी वारदात के मास्टरमाइंड देवेंद्र धृतलहरे और अजय हैं। जो कि घटना के बाद से फरार हैं। शिव ने बताया कि, दोनों यह जानते थे कि कारोबारी अक्सर अपनी दुकान बंद करके बैग में कैस रखकर घर जाता है।

जंगल में मिले और हुई लूट की प्लानिंग

घटना को अंजाम देने के 10 दिन पहले दोनों मास्टरमाइंड ने शिव से संपर्क किया और लूट की प्लानिंग शुरू हुई। शिव ने बताया कि माना तूता रोड के पास सभी लोग बैठकर लूट की वारदात को अंजाम देने की प्लानिंग करते थे। लूटपाट में शामिल अन्य लड़कों को शिव ने ही राजी किया था। और लूटपाट की वारदात को अंजाम देने के बाद सभी अलग-अलग फरार हो गए थे।

शिव ने पुलिस को बताया कि घटना के 2 दिन बाद देवेंद्र अजय और उसने लूट की रकम को आपस में बांट लिए थे। लूटे गए बैंक में कारोबारी का एटीएम कार्ड और बैंक पासबुक मिला था जिसमें बैंक डिटेल भी मिल गई थी। इसके बाद शिव कुमार ने अपने साथ ही शशिकांत और बनवारी के साथ मिलकर एटीएम गया और उसके खाते से ₹40000 निकाल लिए।

पकड़े गए बदमाश

शिव कुमार कोसले, मनीष यादव, टिकेश चतुर्वेदी, सूरज महेश्वर, नरेन्द्र बंजारे, अगम दास कोसले, शशिकांत चतुर्वेदी, बनवारी यादव और दो नाबालिग शामिल हैं। ये सभी अभनपुर और मुजगहन के रहने वाले हैं

इस कांड को अंजाम देने वाले मास्टर माइंड आरोपी देवेन्द्र धृतलहरे, अजय उर्फ अज्जू और तिलक अभी फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।

Back to top button