रायपुर

Raipur: मितानिनों के प्रदर्शन पर राज्य सरकार की सख्ती… मितानिनों ने कहा “अनुमति लिए हैं तो हटेंगे क्यों”…. जंग का मैदान बना बूढ़ा तालाब!!

Raipur: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर का बूढ़ा तालाब इन दिनों प्रदर्शनकारियों और प्रशासन के बीच जंग का मैदान बन रखा है। पिछले 2 दिनों से शासन प्रशासन के द्वारा प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई की जा रही है। उन्हें उनके स्थानों से उठाया जा रहा है।राजनीतिक पार्टियों में बूढ़ा तालाब को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है।

वही पिछले 20 दिनों से प्रदेश स्वास्थ्य मितानिन संघ अपनी 5 सूत्री मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठी हुई है। इसके अलावा स्कूल के सफाई कर्मचारी संघ नियमितीकरण की मांग को लेकर बूढ़ा तालाब में बैठे हुए हैं। अब इन संगठनों को भी डर सताने लगा है कि कहीं प्रशासन हमें भी बेवजह उठाकर धरना स्थल से बाहर का रास्ता ना दिखा दे। मितानिन संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि शासन-प्रशासन ने जिस तरह से धरना-प्रदर्शन के लिए गाइडलाइन जारी की है, वह पुरानी है। धरने के लिए प्रशासन को लिखित में सूचना दी है। ऐसे में सवाल ही नहीं जबरन हटाने का।

राज्य सरकार की मनसा:

इधर बूढ़ापारा धरना स्थल को इसलिए बदलना चाहता है कि पिछले दिनों पांच से अधिक संगठन एक माह भर से अधिक समय से धरना दे रहे थे। जहां पूरी तरह से सड़क जाम, पार्किंग आदि की समस्या निर्मित हो जाती है। इसके अलावा बूढ़ापारा के व्यापारियों ने धरना स्थल को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है। इस दौरान संगठनों की रैली, घेराव कार्यक्रम में अक्सर विवाद निर्मित हो गया।

गौरतलब है कि पिछले दिनों छत्तीसगढ़ गृह विभाग ने धरना-प्रदर्शन के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इनमें प्रदर्शन स्थल की वीडियोग्राफी करना, रैली में कितने लोग शामिल होंगे, रैली के मार्ग आदि की जानकारी देनी होगी, तब कहीं जाकर अनुमति मिलेगी।

बता दें कि पिछले दिनों विद्युत संविदाकर्मी संघ को बूढ़ापारा धरना स्थल और नवा रायपुर किसान कल्याण समिति को एनआरडीए के सामने धरना देने पर पुलिस प्रशासन ने हटाने की कार्रवाई की। वहीं किसान कल्याण समिति अभी एनआरडीए के बदले कयाबांधा गांव को अब प्रदर्शन स्थल बना लिया है, जहां इससे प्रदेश में राजनीति में भू-चाल आ गया है। विपक्षी पार्टी इस कार्रवाई को सरकार की असफलता गिना रही है, जबकि सत्ताधारी पार्टी इन दोनों संगठनों की कई मांगे पूर्ण करने का हवाला दे रही है। ऐसे प्रदर्शन करना उचित नहीं है।

Back to top button