ChhatisgarhCrime

Chhattisgarh Crime news : माइंडेड चोर गिरोह का पर्दाफाश ! साइकल में घूम-घूम कर 41 अलग-अलग जगहों को बनाया निशाना, 70 लाख से अधिक की कर डाली चोरी ! कोड वर्ड का इस्तेमाल कर, घर के बाहर पड़े अखबारों पर रखते थे नजर ! पढ़ें पूरी खबर…

छत्तीसगढ़ chhattisgarh crime news.दुर्ग पुलिस ने साइकल पर घूम घूम कर चोरी की वारदातों को अंजाम देने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। गिरोह के तीन शातिर चोरों को पुलिस ने गिरफ्तार कर रिमांड पर भेजा है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार दिसंबर माह में अवधपुरी के रिसाली में रहने वाले गौतम भट्टाचार्य ने घर में हुए चोरी को लेकर मामले की लिखित शिकायत थाने में दर्ज कराई थी। जिस पर पुलिस द्वारा मामला दर्ज कर अज्ञात चोरों की पतासाजी की जा रही थी। पतासाजी के दौरान पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि रिसाली गांव में एक किराए के मकान पर कुछ संदिग्ध लोग रहते हैं। जो रात के वक्त सभी निकलते हैं और अलग-अलग क्षेत्रों की ओर चले जाते हैं। पुलिस ने संदेहीयों के द्वारा किए जा रहे कार्यों पर नजर रखना शुरू कर दिया। पुलिस को जब संदेहियों के द्वारा किए जा रहे कार्यों पर चोरी का संदेह हुआ तो वे घेराबंदी कर किराए के मकान में रह रहे घर पर दबिश दी। जहां से तीन संदेहियों को पुलिस कस्टडी में लेकर उनसे कड़ी पूछताछ की गई। पूछताछ में उन्होंने आसपास के क्षेत्रों में चोरी की वारदातों को अंजाम देना स्वीकार किया।

चोर गिरोह में शामिल अनवर खान, सागर सेन,द्वारिका दास ने दुर्ग जिले में ही 41 अलग-अलग जगहों से चोरी की घटना को अंजाम देना बताया। पुलिस ने आरोपियों के निशानदेही पर 1 किलो 30 ग्राम सोना, 7 किलो चांदी, 1 लाख नगदी समेत कुल 70 लाख रुपए का चोरी का सामान बरामद किया है।

बिलासपुर के ज्वेलरी दुकान में बेचते थे चोरी के आभूषण-

आरोपी अनवर खान और चोरी का आभूषण खरीदने वाले बिलासपुर सरकंडा निवासी सोमसंद्र उर्फ गुड्डू सोनी रायपुर जेल में मिले थे। जहां अनवर खान राजनांदगांव में किये हत्या के आरोप में तो वहीं बलात्कार के आरोप में गुड्डू सोनी भी रायपुर जेल में बंद थे। जेल के अंदर दोनों की मुलाकात हुई और अनवर खान ने ज्वेलरी चोरी कर गुड्डू सोनी के पास माल खपाने की योजना बनाई। बाद में अनवर खान ने चोरी केई ज्वेलरी को दो अन्य ज्वेलर्स एक सोमचंद सोनी के भाई राजु सोनी और दूसरा जितेंद्र पवार के पास भी भेजना शुरू कर दिया। पुलिस ने तीनों ज्वेलर्स को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 1.3 ग्राम सोना व 7 किलो चांदी बरामद की है।

कई दिनों से घर के बाहर पड़े अखबार वाले घरों को बनाते थे निशाना, लोगों को संदेह ना हो जिसके लिए कोड वर्ड्स का करते थे उपयोग-

मिली जानकारी के अनुसार चोर गिरोह अक्सर उसी घर को निशाना बनाते थे जिस घर के सामने कई दिनों से अखबार पडा हुआ रहता था। घर के बाहर अखबार पड़े रहने से उनको मालूम हो जाता था कि यह घर सुनसान है यहां कई दिनों से घर के रहवासी नहीं रह रहे हैं। चोर गिरोह अक्सर दुर्ग जिले में आभूषण चोरी करके बिलासपुर में खपाने चले जाते थे और जब चोरी का मामला शांत होता था तब पुनः दुर्ग जिले में वापस लौट आते थे। बताया गया है कि चोर गिरोह आपस में एक सीक्रेट कोड वर्ड यूज़ करते थे वे चांदी को (चावल) व सोने को (गेहूं) कहते थे। जिससे लोगों को उनके करतूत के बारे में संदेह ना हो।

Sponsored by

Related Articles

Back to top button
Enable News Updates    OK No thanks