ChhatisgarhCrime

छत्तीसगढ़ / लुटेरी दुल्हन का कारनामा, अखबार में छपे विज्ञापन देख जताई शादी की इच्छा ! मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत रचाई शादी ! समस्या व दो बेटों को रिश्तेदार बताकर जीती दूल्हे का भरोसा ! फिर शुरू की लूट का खेल…. पढ़ें पूरी खबर…

छत्तीसगढ़ Bilaspur crime news. सरकंडा पुलिस ने शादी के नाम पर पैसे व संपत्ति की लूट करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। पुलिस ने गिरोह में शामिल दो युवकों को गिरफ्तार किया है, तो वही दुल्हन बनने के नाम पर लोगों को चूना लगाने वाली लुटेरी दुल्हन अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। इस गिरोह ने अभी तक 6 दूल्हे को अपना शिकार बनाया है।

मिली जानकारी के अनुसार ठगी के शिकार हुए प्रार्थी मुंशीलाल पस्टारिया उम्र 78 वर्ष जो थाना क्षेत्र के नूतन कॉलोनी चौक के रहने वाले हैं। जो लूट गिरोह के शिकार होने के बाद मामले की शिकायत थाने में दर्ज कराई थी। मुंशीलाल ने अपनी शिकायत में बताया है कि वह वर्ष 2016 में शादी हेतु अखबार में शादी के लिए दुल्हन चाहिए शीर्षक से एक विज्ञापन प्रकाशित करवाया था जिसे देखकर सागर मध्य प्रदेश निवासी एक 48 वर्षीय महिला आशा उर्फ इंद्राणी शर्मा ने उनसे फोन पर संपर्क किया। प्रार्थी से फोन में संपर्क होने के बाद उन्होंने उनके साथ शादी करने की इच्छा जताई। जिसके बाद शासन द्वारा चलाए जा रहे मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत वे भोपाल में एक परिणय सूत्र में बंध गए।

विवाह हो जाने के पश्चात ठगी दुल्हन अपना खेल करना शुरू कर दी और अपनी समस्या बताते हुए उन्होंने कभी जमीन छुड़वाने तो कभी अन्य परेशानी बताते हुए प्रार्थी का भरोसा जीत कर ठगी करना शुरू कर दी। देखते ही देखते उसने प्रार्थी से 13 लाख 65 हजार रुपए नकदी, 65000 रु के जेवर व एक अल्टो कार को लेकर फरार हो गई। कुछ दिनों के बाद जब प्रार्थी को ठगी का अहसास हुआ तो वह पुलिस के शरण में गया और मामले की लिखित शिकायत थाने में दर्ज कराई।

शिकायत के बाद जब पुलिस ने मामले की जांच शुरू की तो उसके भी सर चकरा गए पुलिस को पता चला कि ठग गिरोह के खिलाफ पहले से राजस्थान दादाबाड़ी थाने में मामला दर्ज है जिसके तहत अभी लुटेरी दुल्हन जेल में निरूद्ध है। वही लुटेरी दुल्हन के दो अन्य साथी सागर मध्य प्रदेश में छिपे हुए हैं। सूचना मिलने पर पुलिस दबिश देकर दोनों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस गिरफ्त में आए दोनों युवक निकले लुटेरी दुल्हन के बेटे

पुलिस गिरफ्त में आए दो युवक राहुल शर्मा व आशीष शर्मा ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह दोनों लुटेरी दुल्हन आशा शर्मा के बेटे हैं जो अपना नाम बदलकर व खुद को लुटेरी दुल्हन के रिश्तेदार बताकर लोगों को ठगी का शिकार बनाते हैं। दोनो युवकों ने अपना असल नाम राहुल सिंह व आशीष सिंह पिता दिलीप सिंह होना बताया। उन्होंने बताया कि अपनी मां के साथ मिलकर इंदौर,देवास, दुर्ग जयपुर में भी धोखाधड़ी कर चुके हैं। आरोपियों के कब्जे से एक अल्टो कार, 1,35000 रु वाला तीन चेक, मोबाइल व 600 रु नगद जप्त किया गया है।

Sponsored by

Related Articles

Back to top button
Enable News Updates    OK No thanks