National

अब “वैक्सीन वाले चचा” के ऊपर FIR हुआ दर्ज… अलग-अलग ID की मदद से 11 बार लगवा चुके है कोविड टीके!!

मधेपुरा। कोरोना संक्रमण के बीच वैक्सीन का भी दौर तेजी से बढ़ा है। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सिंग की डोज हेतु सेंटरों पर लंबी-लंबी कतारों में कई घंटे खड़े दिखाई देते हैं। वही एक अजीबो गरीब मामला बीते दिनों निकल कर सामने आया है। जहां 84 वर्षीय बुजुर्ग ने 12वीं बार स्वास्थ्य विभाग के आंखों में धूल झोंक कर वैक्सीन लगवाने की कोशिश की और वह पकड़ा गया।

हाल ही के दिनों में इस बुजुर्ग को सोशल मीडिया पर 11 बार वैक्सीन लगाने के कारणों से काफी ट्रोल किया गया। जिसमें इन्हें मिर्जापुर वेब सीरीज की तर्ज पर “वैक्सीन वाले चचा” का नाम भी दे दिया गया है।

अब संबंधित बुजुर्ग के ऊपर स्वास्थ्य विभाग ने f.i.r. दायर किया है। जिसमें 11 बार फर्जी तरीकों से वैक्सीन लगाने एवं स्वास्थ्य विभाग को गुमराह करने के संगीन आरोप है। यह FIR प्राथमिक स्वास्थ्य विभाग पुरैनी की तरफ से दर्ज कराई गई है। स्वास्थ्य विभाग ने गुमराह करके 11 बार अलग-अलग आईडी पर वैक्सीन लेने के मामले में यह एफआईआर 84 वर्षीय ब्रह्मदेव मंडल के खिलाफ दर्ज कराई है।

12 बार मे खुली पोल:

ब्रह्मदेव मंडल मधेपुरा के उदाकिशुनगंज के औराई गांव के रहने वाले हैं, जिन्हें स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 2 जनवरी, दिन रविवार उस वक्त पकड़ लिया गया, जब वह 12वीं बार कोविड वैक्सीन लगवाने के फिराक में थे। इस दौरान लोगों ने उनकी शिनाख्त कर ली और उन्हें वैक्सीन लगाने से मना कर दिया गया। जानकारी के मुताबिक, उन्होंने इसके लिए अपने परिवार के नजदीकी सदस्यों की अलग-अलग आईडी और मोबाइल फोन नंबरों का भी इस्तेमाल किया था।

पुरैनी थाना इंचार्ज दीपक चंद्र दास ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

सेवानिवृत्त पोस्टमास्टर ब्रह्मदेव मंडल ने दावा किया था कि वो कोविड वैक्सीन 11 बार लगवा चुके हैं। जबकि, तीसरी डोज की प्रक्रिया भी अभी तक भारत में शुरू नहीं हुई है। ब्रह्मदेव मंडल के दावे के बाद बिहार स्वास्थ्य विभाग में खलबली मच गई थी और राज्य के स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों ने जांच शुरू कर दिया है।

मंडल ने दावा किया था कि कोरोना वैक्सीन की पहली डोज

13 फरवरी, 2021 को लगी थी। उसके बाद उन्होंने पिछले साल मार्च, मई, जून, जुलाई और अगस्त में लगातार इसके टीके लगवाए थे। सितंबर में उन्होंने अपना आधार कार्ड, वोटर आईडी और बाकी दस्तावेजों का इस्तेमाल कर तीन बार वैक्सीन लगवाई थी। इस तरह से उनका दावा है कि वह बीते साल 30 दिसंबर तक 11 बार कोरोना वैक्सीन की डोज लगवा चुके हैं। उन्होंने इस तरह से वैक्सीन लगावने के सनक का कारण बताने से पहले कहा कि ‘सरकार ने बहुत ही बढ़िया चीज (वैक्सीन) बनाई है।’

वैक्सीन से घुटनों में दर्द से आराम मिलने किया दावा

सबसे हैरानी की बात है कि मंडल का दावा है कि हर बार कोरोना वैक्सीन का टीका लगवाने के बाद उसने बहुत ही अच्छा महसूस किया है। उनका कहना है कि टीके की शुरुआत से पहले उन्हें कई तरह की दिक्कतें थीं। खासकर घुटनों में काफी दर्द रहता था। लेकिन, हर टीके के बाद उनकी परेशानियां खत्म होती चली गईं। उनके मुताबिक, अब उन्हें किसी तरह का दर्द भी नहीं होता।

Sponsored by

Related Articles

Back to top button
Enable News Updates    OK No thanks