Newsरायगढ़

रायगढ़: बेटी के न्याय के लिए माँ ने लगाई वकीलों से गुहार! कोई वकील ना करें, दरिंदों की पैरवी…!!

Raigarh: रायगढ़ में बीते दिनों सहारा इण्डिया की कर्मचारी काजल मसंद की हत्या कर दी गई थी। हत्या के बाद से जनता में आक्रोश का माहौल व्याप्त था। तमाम संगठन के लोगों ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए रैलियां एवं ज्ञापन का दौर चलाया। जिसके बाद पुलिस ने हरकत में आते हुए महज 4 दिनों में ही आरोपियों को धर दबोचा। इसके लिए बड़े स्तर पर रायगढ़ पुलिस ने टीम भी लगाई थी।

पीड़िता के परिजन मिले, वकीलों के अध्यक्ष रमेश शर्मा से

क्योंकि मामला हाइलाइटेड था। इसलिए पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके पुलिस कंट्रोल रूम में अंधे कत्ल का खुलासा किया। अब आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। जिसमें से एक आरोपी आदतन बदमाश है। जो कि पूर्व में ही हत्या एवं बलात्कार जैसे मामलों में जेल जा चुका है। हत्या के दिन बीते का अपनी मां को छोड़कर वापस घर आई थी तभी ताक में खड़े आरोपियों ने उसके घर में घुसकर उसके साथ गलत काम करने की कोशिश की। जिसमें नाकाम रहने पर पत्थर से मारकर उसकी हत्या कर दी। सभी आरोपियों के खिलाफ अब मृतिका के परिजनों ने प्रशासन और शासन से गुहार लगानी शुरू कर दी है। ताकि रायगढ़ में और कोई बेटी ऐसे अपराधियों की शिकार नहीं बने।

इसी क्रम में आज काजल के परिजनों ने अधिवक्ता संघ के नाम ज्ञापन सौंपकर निवेदन किया है, कि आरोपियों की तरफ से कोई भी वकील उनकी पैरवी ना करें। इससे पहले बीते बुधवार को भी काजल के परिजनों ने एसपी से मुलाकात करते हुए। आरोपियों को फांसी देने की सजा की मांग की थी। इसमें सिंधी समाज अग्रसर रहा।

पीड़ित परिवार ने दिया ज्ञापन

बता दे कि,पकड़े गए 3 आरोपियों में से मुख्य आरोपी रामभरोस चौहान के विरुद्ध वर्ष 2013 में आबकारी एक्ट, वर्ष 2014 में मारपीट में चालान, तीन बार 107,116(3) एवं 151 CrPC की कार्रवाई कर जेल भेजा जा चुका है।साथ ही 110 CrPC की प्रतिबंधात्मक कार्यवाही कर प्रतिबंधित किया गया था। वर्ष 2016 में आरोपी पर दुष्कर्म, पॉक्सो एक्ट (376) हत्या का प्रयास (307) में  गिरफ्तार कर चालान किया गया था, आरोपी इस मामले में सजा हुई थी, जो 5 साल जेल में रहा और हाईकोर्ट से जमानत प्राप्त किया है।

Back to top button