रायगढ़/ 5 जून से पहले भी खुल सकता हैं लॉक डाउन..? कलेक्टर ने दिए संकेत..! पॉजिटिव रेट और मौत के आंकड़ों पर है सब कुछ डिपेंड..! देखिए क्या बताते है पिछले एक हफ्ते की पॉजिटिव रेट और मौत के आंकड़े.. क्यों बढ़ा लॉकडाउन..? देखें एक्सक्लूसिव रिपोर्ट..

5,715 views

रायगढ़। रायगढ़ जिले में लॉक डाउन 14 अप्रैल से शुरू हुआ था। 31 मई को लॉक डाउन खुलने की उम्मीद थी।लेकिन इसी बीच जिला प्रशासन द्वारा लॉकडाउन को 5 दिन और बढ़ाने का निर्णय लिया गया। रायगढ़ जिले में अब 5 जून तक लॉकडाउन है। लेकिन इसी बीच एक राहत की खबर यह है कि अगर स्थिति सुधरी रही तो 5 तारीख के पहले लॉकडाउन खोलने या संभावित छूट दी जा सकती है।

रायगढ़ कलेक्टर भीम सिंह जानकारी देते हुए

इस बारे में रायगढ़ जिला कलेक्टर भीम सिंह ने बताया कि रायगढ़ में संक्रमण की स्थिति 5% के ऊपर है। (इसका मतलब प्रति 100 टेस्टिंग में 5 से ज्यादा पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं।) सरकार का निर्देश है कि 5% से कम पॉजिटिव रेट लगातार तीन दिन तक आने पर लॉकडाउन खोल सकते है। 31 मई को पॉजिटिव रेट 5.4% रहा हैं। अगर इसी प्रकार 1 जून और 2 जून को पॉजिटिव रेट 5% से कम आता है तो 3 जून को लॉकडाउन खोलने पर विचार किया जा सकता है।

मौत के आंकड़ों पर एक नजर

इसके आलावा रायगढ़ में कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या भी लॉकडाउन बढ़ाने के पीछे बड़ी वजह रही है। जिसका उल्लेख आदेश में भी किया गया है। नीचे पिछले एक हफ्ते (25 मई से 31 मई तक) के पॉजिटिव परसेंटेज और मौत के आंकड़े दिखाए जा रहे हैं।

25 मई से 31 मई तक रायगढ़ में पॉजिटिव रेशियो और मौत के आंकड़े

अगर 25 मई से 31 मई तक की बात की जाए तो, इस दौरान कोविड से जिले में कुल 61 मौतें हुई हैं। जिसमें 29 मई को सबसे अधिक 13 लोगों की मौत हुई थी और सबसे कम मौत 31 मई को चार लोगों की दर्ज की गई है। अगर एक हफ्ते का औसत देखा जाए तो यह करीब 9 के पास आता है। इसका मतलब यह कि पिछले एक हफ्ते में कोविड-19 से जिले में औसतन 9 लोग की मृत्यु हो रही है।

जिले में मौत के आंकड़ों का पिछले  हफ्ते का ग्राफ

मौतों की वजह

देखा जाए तो वाकई यह चिंता का विषय है। राज्य सरकार और प्रशासन मौत के आंकड़ों को कंट्रोल करने की बात कह रही है, और इसके लिए आवश्यक कदम भी उठाए जा रहे हैं। जानकारी के अनुसार इन मौतों में अधिकतर वे मरीज हैं, जिन्हें काफी देर से अस्पताल लाया जाता है या कई मरीज की स्थिति ऐसी होती है कि उन्हें बचाना नामुमकिन होता है।

पॉजिटिव रेट

अब हम यहां बात करेंगे पॉजिटिव मरीजों की संक्रमण दर की, जिसे पॉजिटिव रेट भी कहा जाता है। यह आंकड़ा प्रति 100 टेस्टिंग में पॉजिटिव मरीजों की संख्या को दर्शाता है। इसका लगातार कम होना अच्छी बात है। अगर पिछले 1 हफ्ते के आंकड़ों को देखा जाए तो पॉजिटिव रेट का ग्राफ में लगातार गिरावट देखी गई है। लॉक डाउन खोलने की शासन के मापदंड के अनुसार, हम पॉजिटिव रेट 5% के करीब पहुंचे है।

रायगढ़ में 25 मई से 31 मई तक पॉजिटिव दर का ग्राफ

अगर ग्राफ़ एनालिसिस को देखा जाए तो आने वाले दिनों में भी पॉजिटिव रेट में गिरावट देखी जा सकती हैं। जिसके बाद उम्मीद लगाई जा सकती है कि लॉकडाउन में राहत मिलेगी, सम्भव है कि राज्य सरकार रायगढ़ में लॉकडाउन खोलने पर विचार करें। फिलहाल जिला कलेक्टर की माने तो 31 मई 1 जून और 2 जून के आंकड़ों के बाद लॉकडाउन पर एक बड़ा फैसला लिया जा सकता है।

पिछले एक हफ्ते में पॉजिटिव रेट और मृत्यु की स्थिति

अंत मे..

सभी आंकड़ों को देखने के बाद कहा जा सकता है कि पॉजिटिव रेट में लगातार गिरावट एक अच्छा संकेत है, मगर अभी भी कोविड मरीजों की मृत्यु एक बड़ा खतरा बन कर सामने दिख रही है। एक हफ्ते में 61 मौत वो सिर्फ एक ही बीमारी की वजह से..?? सही मायने में देखा जाए तो खतरा अभी टला नहीं है। अभी भी सावधानी की जरूरत है क्योंकि जैसा विशेषज्ञों की माने तो कोविड की तीसरी लहर का खतरा भी अभी बना हुआ है। सरकार और प्रशासन ने अभी से इस ओर कदम बढ़ाने शुरू कर दिए हैं। इसलिए चाहिए कि कोविड के गाइडलाइन को अब जीवन में व्यवहार में लाया जाए। भीड़ भाड़ की जगह में जाने से बचा जाए। बाहर निकलने पर मास्क जरूर पहने। समय-समय पर सेनीटाइजर और साबुन से हाथ धोते रहें। अपनी बारी आने पर वैक्सिंग जरूर ले।

आशीष शर्मा, एडिटोरियल डायरेक्टर, RIG24

रेफरेंस वीडियो:

( डिस्क्लेमर: सभी आंकड़े रायगढ़ जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा प्रतिदिन जारी रिपोर्ट पर आधारित है।)

Read More