इस कोविड सेंटर में मरीज खुद लगाते हैं झाड़ू ! नाश्ता मांगने पर कर्मचारी देते हैं धमकी! बच्चे और डायबिटीज मरीजों का है बुरा हाल.. सारंगढ़ सीपीएम कोविड सेंटर की कहानी, सुने वहां के मरीजों की जुबानी

रायगढ़/सारंगढ़। जिले में कोविड-19 ओं की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। कल 3 अक्टूबर को रायगढ़ जिले में रिकॉर्ड तोड़ 326 पॉजिटिव मरीज पाए गए। प्रशासन द्वारा कोविड-19 को होम आइसोलेशन और अस्पताल दोनों की सुविधा दी गई है। सारंगढ़ में सीपीएम कॉलेज को अस्थाई तौर पर कोविड अस्पताल गया है। इसी बीच वहां के मरीजों द्वारा वहां के प्रबंधन को लेकर कई सवाल उठाए गए हैं उन्होंने नाश्ता नहीं मिलने और नाश्ता मांगने पर अभद्रता और बाहर देख लेने तक की धमकी जैसा आरोप लगाया है।

सारंगढ़ के इस कोविड-19 सेंटर में  बच्चे बुजुर्ग पुरुष महिलाएं सभी भर्ती हैं। वहां के मरीजों ने बताया कि वहां कोई सफाई कर्मचारी नहीं आता है। मरीजों को अपना वार्ड खुद ही साफ करना होता है। इसके साथ ही आज सुबह जब नाश्ता की मांग की गई तो वहां के कर्मचारियों द्वारा नाश्ता खत्म होने की बात कही गई। इसके साथ ही उनके द्वारा मरीजों के साथ हुज्जत बाजी की गई। उन्हें धमकी तक दी गई कि बाहर निकलिए आपको देख लेंगे।

नाश्ता ना मिलने से सबसे ज्यादा परेशानी वहां इलाज करा रहे बच्चों और डायबिटीज के मरीजों को हो रही है। वहां पर कुछ मरीजों ने अपनी बात और समस्या साझा करते हुए बताया कि

चंद्रा जी कोसीर के अनुसार- छोटा बच्चा भूखा है, अभी तक नास्ता नही मिला। मुझे डाइबिटीज है। टाइम से नास्ता खाना नही मिलेगा तो मेरे बच्चों और मेरे स्वास्थ्य का क्या होगा? कबतक मेरे बच्चों को बिस्किट खिला के रख पाऊंगा तथा कलेक्टर महोदय से व्यवस्था को तत्काल सही कराने का निवेदन किया गया वरना लोग कोरोना से पहले डाइबिटीज या अन्य बीमारियों से मर जाएंगे।

सरपंच पिता बोधराम ने कहा कि यहाँ नास्ता नही मिल रहा सिर्फ दवा ही दिए जा रहे हैं कोई बात सुनता ही नही।

एक अन्य मरीज का कहना है कि कल से आये हैं। अभी तक कुछ व्यवस्था ही नही है सिर्फ दवा ही मिला है बिना कुछ खाये दवा कैसे खाएं?

एक अन्य मरीज जो 1 अक्टूबर से यहां एडमिट हैं जो शुगर पेशेंट हैं। जिन्हें डॉक्टरों ने रोटी ही खाने को कहा है,  मुझे रोटी दिला दीजिए, मेरा शुगर लेबल बढ़ जाएगा तो उनका साफ कहना है कि जो मिलेगा चुप चाप खाओ।

Join Group