एनएचएम हड़ताल के कारण स्वास्थ्य विभाग डगमगाया… प्रदेश भर में लगातार बर्खास्तगी का सिलसिला जारी, हड़तालकर्मियो ने भी अपनाया अनोखा विरोध प्रदर्शन.. पढ़े खबर एक्सक्लुसिव वीडियो के साथ!!

रायगढ़। नियमितीकरण की मांग को लेकर संविदा एनएचएम के 13000 कर्मचारी बीते 19 सितंबर से हड़ताल पर हैं और अभी भी इन कर्मचारियों ने हड़ताल को जारी रखा है। जबकि पूरे प्रदेश में इन कर्मचारियों की लगातार बर्खास्तगी जारी है। जिसके विरोध में पहले ही इन कर्मचारियों ने अपना इस्तीफा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को सौंप दिया था।

स्वास्थ्य सेवाओं पर पड़ रहा असर

प्रदेश में पहले से ही स्वास्थ्य विभागों में कर्मचारियों की संख्या कम थी। जिसके बाद से 13000 कर्मचारियों के काम छोड़कर चले जाने से स्वास्थ्य विभाग की स्थिति भी डगमगा सी गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पूरे छत्तीसगढ़ में 35 से 40 फ़ीसदी सेंपलिंग डाटा कलेक्शन में कमी आई है। रोज जहां 18000 कोरोना सैम्पलिंग हो रही थी। वही 2 दिन के औसत के रूप में 12000 रह गई है।

नहीं थम रहा संविदा बर्खास्तगी का सिलसिला:

प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओं का बुरा हाल है। फिर भी 13000 हड़ताल कर्मचारियों के विरोध के बाद भी जिले में उनकी बर्खास्तगी का सिलसिला कम होता हुआ नजर नहीं आ रहा है। बीते बुधवार को चार स्वास्थ्य कर्मियों की सेवाएं जिले कलेक्टर ने समाप्त कर दी। जिसमें भुवन साहू विकासखंड डाटा प्रबंधक CHC सारंगढ़ के थे। वहीं भूपेंद्र चौहान डेंटल असिस्टेंट CHC सारंगढ़ एवं दिनेश साहू आरबीएसके फार्मा तमनार CHC, खुशबू प्रधान विकासखंड डाटा प्रबंधक CHC पुसौर।

रायगढ़ में भी दिखा असर

बीते बुधवार काे शहर में दो लोग कोरोना से हार गए। इसके साथ ही मरने वालों की संख्या 50 पार हो गई है। बुधवार काे जिले में आरटीपीसीआर व एंटीजन से हुई जांच में 149 लाेग संक्रमित मिले हैं। डॉक्टरों के मुताबिक शहर के साथ जिले में खतरा बहुत बढ़ा है। दो दिन से मरीज कम मिलने की वजह जांच में कमी आना है, संविदा स्वास्थ्य कर्मियों के हड़ताल और इस्तीफे के बाद सैंपलिंग कम हुई है। सीएमएचआे डा. एसएन केशरी ने बताया कि मेडिकल कालेज से आई रिपाेर्ट में 45 आरटीपीसीआर, 95 एंटीजन तथा 9 ट्रूनैट से पॉजिटिव पाए गए हैं। दो लोगों की मौत भी हुई है।

देखे वीडियो

ऊपर दिए हुए वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तमनार में कुछ मरीज अपने डेंटल चेकअप के लिए सीएचसी पहुंचे थे। जिसमें डॉक्टर की पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने के कारण उनका उपचार हो पाना संभव नहीं था और बीती रात एक तमनार के भी स्वास्थ्य कर्मी को बर्खास्त किया गया है।

हड़ताल का पड़ रहा असर कम लिए जा रहे सैंपल

संविदा कर्मचारियाें की मांग का स्वास्थ्य सेवाओं पर असर पड़ा है। काेराेना संक्रमण में सर्विलांस टीम में सर्वे के साथ ही जांच कलेक्शन सेंटर व हाेम आइसाेलेशन में रहने वाले मरीजाें की ट्रेसिंग के बाद सैंपल लेने में लगे कर्मचारी हड़ताल पर थे और मंगलवार काे 450 लाेगाें ने इस्तीफा दे दिया। जिसके चलते जांच कार्य के साथ अन्य सेवाएं प्रभावित है। साेमवार काे 492 लाेगाें के सैंपल लेकर भेजे गए थे। जबकि जिले में एक दिन में एक हजार से भी अधिक जांचें रोजाना हो रही थीं।

NHM “नहीं हारेगा मनोबल” विरोध प्रदर्शन का अभी भी अनोखा ढंग जारी

एनएचएम के हड़ताल कर्मियों के द्वारा रोज अनोखे तरीके से विरोध प्रदर्शन जारी है। बीते बुधवार को जहां शहर के मिनी स्टेडियम में इन कर्मचारियों ने मास्क और अपील पत्र स्वरूप पंपलेट बांटे। वही आज लॉकडाउन के प्रथम दिवस में इन्होंने घर पर रहते हुए रंगोली के माध्यम से अपना विरोध प्रकट किया।

RIG24 के संवाददाता से हुई बातचीत में जिला अध्यक्ष ईश्वर दिनकर ने बताया कि “हमारी मांगे जायज है हम जनता के हितों के साथ खिलवाड़ नहीं कर रहे हैं। हमने वॉलिंटियरसिप के लिए भी सरकार के सामने प्रस्ताव रखा था। फिर भी बर्बरता पूर्वक हमारे साथी कर्मचारियों की बर्खास्तगी उन्होंने जारी रखी है। और हम भी लगातार अपने इस्तीफे सरकार को सौंप रहे हैं। तमाम बड़े नेताओं का समर्थन भी हमें मिल रहा है और सरकार से हैं हम अभी भी आग्रह कर रहे हैं कि हमें नियमित कर दिया जावे।”

Read More

Crime Story

रायगढ़ / पुलिस ने सुलझाई अंधे कत्ल की गुत्थी ! सामाजिक बुराई बनी हत्या की वजह ! गला दबाकर उतारा गया था मौत के घाट..! पति और जीजा निकले हत्यारे..! घटना को अंजाम देकर भागने की हड़बड़ी में घटना स्थल पर ही छोड़ भागे थे चप्पल और गमछा.! पढ़े पूरी खबर..