RIG Breaking : नेता पुलिस और बिजनेसमैन की यारी का कहर टूटा एक सिक्योरिटी गार्ड पर! रिहायशी कॉलोनी के सिक्योरिटी गार्ड की पहले बिजनेसमैन ने की पिटाई ! फिर 17 किलोमीटर दूर थाने के आरक्षक ने दोबारा बेरहमी से पीटा ! इंसाफ के लिए गार्ड पहुंचा पुलिस कप्तान की शरण मे..

रायगढ़, 01 सितम्बर। रायगढ़ जिले में आज एक सनसनीखेज मामले ने हलचल मचा दी है। यहां एक सिक्योरिटी गार्ड की आधी रात को एक बिजनेसमैन ने पिटाई की गई। जब खुद की पिटाई से मन नहीं भरा तो उस बिजनेसमैन ने अपने रसूख दिखाते हुए 17 किलोमीटर दूर दूसरे थाने के पुलिस आरक्षक को बुलाकर दोबारा से आरक्षक द्वारा उसकी पिटाई करवाई। इस पूरे मामले में कांग्रेसी नेता का भी नाम सामने आया। नेता पुलिस और बिजनेसमैन की यारी ने जब इतना कुछ किया, तो उसके बाद बवाल तो होना ही था! इस पूरे मामले में गार्ड के साथ एनएसयूआई फ्रंटलाइन पर है। पुरे सोशल मीडिया में गार्ड का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। पीड़ित ने इसकी शिकायत रायगढ़ जिला एसपी संतोष कुमार सिंह से की है।

पीड़ित ने कैमरे के सामने बताया कि उसका नाम दिव्यांश सिंह है। उम्र 21 साल है और वह पॉलिटेक्निक की पढ़ाई करता है। उसका घर ढिमरापुर जिंदल रोड पर है। लॉक डाउन होने की वजह से परिवार पालने के लिए वह सिक्योरिटी गार्ड की 6000 की नौकरी करने लगा। कल रात उसकी ड्यूटी फ्रेंड्स कॉलोनी पर थी। 31 अगस्त की रात करीब 11:15 बजे रोहतास नेहरा अपनी गाड़ी से फ्रेंड्स कॉलोनी पहुंचा। जहां दरवाजा खोलने को लेकर सिक्योरिटी गार्ड से उसका विवाद हुआ। रोहतास नेहरा ने उस गरीब सिक्योरिटी गार्ड को 10-12 थप्पड़ जड़ दिए उसका जबड़ा हिल गया। इतने पर भी उसका गुस्सा शांत नहीं हुआ। उसने अपने कांग्रेसी नेता मित्र को बुलाया। उसके बाद पूंजीपथरा थाने में पदस्थ एक आरक्षक धर्मेंद्र प्रताप सिंह को बुलाया धर्मेंद्र प्रताप सिंह ने उसे फ्रेंड्स कॉलोनी से अपनी गाड़ी में बैठाया और रास्ते में उसकी दोबारा तबीयत से फिर पिटाई की। वह माफी मांगते रहा लेकिन वह आरक्षक अपनी दोस्ती निभाता रहा। गरीब सिक्योरिटी गार्ड को दोबारा से पीटने के बाद उसे वापस स्कॉर्पियो गाड़ी में बैठा कर फ्रेंड्स कॉलोनी छोड़ दिया गया।

पीड़ित दिव्यांश ने बताया कोतरारोड थाने के पास खाकी का रौब दिखाते हुए धर्मेंद्र प्रताप सिंह और रोहतास मेहरा ने दिव्यांश के साथ मां बहन की अश्लील गाली गलौच करते हुए लात घूसों की बौछार कर दिया। इतना ही नहीं मारपीट करने के बाद भी इन दोनों का मन नहीं भरा और धर्मेंद्र प्रताप सिंह और रोहतास मेहरा ने दिव्यांश को धमकी भी दी कि तेरी नौकरी खा जाएंगे और जो करना है कर ले। मारपीट गाली-गलौज को धमकी देने के बाद दोनों ने दिव्यांश को फ्रेंड्स कॉलोनी के बाहर उतार दिया और अपनी अपनी गाड़ी लेकर दोनों वहां से निकल गए।

मामला कोतरा रोड थाने का था तो पूंजीपथरा थाने का आरक्षक आकर अपने बिजनेसमेंन मित्र के लिए एक सिक्योरिटी गार्ड को पूरी तरीके से क्यो धो देता है? इतना ही नहीं वह नीले बत्ती वाली गाड़ी में आता है। आरक्षक के इस कांड ने जिले में पुलिस की साफ-सुथरी और सोशल पुलिसिंग छवि पर दाग लगा दिया है। अगर आरक्षक ने कार्यवाही की तो सबसे बड़ी बात कि दूसरे थाना क्षेत्र में आकर कार्रवाई करने के लिए क्या उसने किसी बड़े अधिकारी की परमिशन ली थी या बस दोस्ती निभाने के लिए गाड़ी उठा कर चला आया। यह जांच का विषय है।

घटना के बाद रात भर दर्द से कराते हुए दिव्यांश ने आज प्रातः काल अपने मित्रों को इस बात की सूचना दी और पुलिस अधीक्षक के पास जाकर घटना की जानकारी देते हुए शिकायत दर्ज कराया है।

पूरे घटना की जानकारी सुनिए पीड़ित की जुबानी

शिकायत की कॉपी

मारपीट करने वाला रोहतास नेहरा

आपको बता दें कि दिव्यांश सिंह पॉलिटेक्निक का स्टूडेंट है और उसने इस बात की जानकारी जब छात्र नेता राकेश पाण्डेय ने पीड़ित युवक को न्याय दिलाने की बात कही। मीडिया से मुखातिब होते हुए राकेश ने कहा की :

21 साल का एक नौजवान लॉकडाउन में सिक्योरिटी गार्ड की ₹6000 की मासिक वेतन पर नौकरी कर रहा है और अपने कर्तव्य का पालन करते हुए हुज्जत बाजी करने वाले युवक रोहतास को कॉलोनी के भीतर गाली गलौज करने से रोक रहा है लेकिन रोहतास ने अपने पुलिस मित्र धर्मेंद्र प्रताप सिंह के दम पर बलपूर्वक फ्रेंड्स कॉलोनी से उठाकर कोतरा रोड में गुंडों के तर्ज पर उसके साथ मारपीट की जिसके कारण उसके जबड़े में काफी चोट आई है। पूंजीपथरा में पदस्थ आरक्षक को कोतरा रोड के मामले में आधी रात को आकर खुलेआम हमारे छात्र के ऊपर बर्बरता पूर्वक मारपीट करना किसी भी प्रकार से अक्षम में है। एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष होने के नाते मेरा कर्तव्य है कि मैं छात्र हित के लिए आवाज उठाऊँ और दिव्यांश को न्याय दिलाने के लिए एनएसयूआई की टीम हर स्तर पर प्रयास करेगी और यदि पुलिस प्रशासन द्वारा उचित कार्यवाही नहीं की जाती है तो एनएसयूआई रायगढ़ शहर में आंदोलन करने के लिए भी पीछे नहीं उठेगी हटेगी।”

Join Group