RIG Breaking: लॉकडाउन के पहले दिन सुबह से ही पुलिस और प्रशासन दोनों दिखे सख्त! दो उद्योगों के कर्मचारियों का परिवहन करते बसें हुई जब्त! वही एक उद्योग को मिली छूट..? एक मिल्क पार्लर भी हुआ सील… बेवजह घूमने वालो की चार मोटरसाइकिल और आठ साइकिल पर भी जब्ती की कार्यवाही..

  • उद्योगों के कर्मचारियों को ले जाने वाले बसों को किया प्रशासन की टीम ने जप्त
  • अनावश्यक रूप से बाहर निकलने वाले चार मोटरसाइकिल सहित आठ साइकिल को पुलिस ने किया जप्त
  • एक मिल्क पार्लर को सील करने की कार्रवाई

रायगढ़। आज 24 सितंबर से 30 सितंबर तक चलने वाले लॉकडाउन का पहला दिन है। लॉकडाउन को लेकर प्रशासन भी काफी गंभीर नजर आ रहा है। आज सुबह 6:00 बजे से ही प्रशासन की टीम पूरे शहर का मुआयना करने के लिए निकली। रायगढ़ एसडीएम जुगल किशोर उर्वशा, तहसीलदार सीमा पात्रे, नायब तहसीलदार विक्रांत सिंह राठौर कड़ी कार्रवाई करते हुए उद्योगों के तीन बसें जप्त की हैं। जिसमें मोनेट स्टील एंड पावर लिमिटेड की दो बसें कर्मचारियों को ले जाने वाली बसें हैं। इन बसों के द्वारा अपने कर्मचारियों को प्लांट तक ले जाया जा रहा था। इसके पहले प्रशासन की टीम ने वहां दबिश दी और वाहनों को जब्ती की कार्रवाई की गई। जप्त की गई इन बसों को कोतरा रोड थाना परिसर में रखा गया है।

कर्मचारियों को समझाइश देते प्रशासनिक टीम

आपको पता दें कि लॉकडाउन में उद्योगों को लेकर सख्त हिदायत दी गई है कि वे संयंत्र के भीतर ही अपने श्रमिकों को रखकर उत्पादन कार्य करेंगे। इस लॉकडाउन डाउन के दौरान सड़कों पर आवागमन पूरी तरह से प्रतिबंधित हैं केवल आवश्यक सेवाओं के लिए ही छूट दी गई है।

लॉकडाउन चेकिंग के लिए पहुंची प्रशासनिक टीम

एक उद्योग को परिवहन में मिली छूट

वही दूसरी तरफ एक विरोधाभास भी दिखाई दिया। जहां एंड एग्रो एनर्जी की बस अपने कर्मचारियों को लेकर सड़कों पर दौड़ती दिखाई दी। प्रशासन की टीम द्वारा रोकने पर बताया गया कि उन्हें बस परिवहन की अनुमति मिली है। बताया जा रहा है कि ऐन मौके पर इस उद्योग ने प्रशासन से अपने कर्मचारियों के परिवहन की अनुमति ले ली थी। एंड एग्रो को लॉकडाउन में छूट किस वजह से दी गई, इस पर मेहरबानी क्यों की गई? अभी अज्ञात है। इस मामले में कहा जा रहा है कि जिस आधार पर इंड एग्रो को कर्मचारियों के परिवहन की छूट दी गई है, उसी को आधार पर आज कई उद्योगों की बसों को अपने कर्मचारियों को परिवहन की छूट दी जा सकती है।

अधिकारियों की समझाइश के बाद वापस लौटते मोनेट के कर्मचारी

आपको बता दें कि रायगढ़ में 100 से अधिक छोटे-बड़े उद्योग कार्यरत हैं। जिनमें से ज्यादातर कर्मचारी रायगढ़ शहर में रहते हैं। रायगढ़ शहर की एक बड़ी आबादी इन उद्योगों में आना-जाना करती है। लॉकडाउन के दौरान अगर में छूट दी जाती है तो संभव है कि एक बार फिर लॉकडाउन के बीच भी रायगढ़ की सड़कों पर वाहन दौड़ते दिखाई देंगे और इतनी सख्ती के बावजूद इस लॉकडाउन डाउन का भी हस्र उसी तरह होगा जैसा पिछले लॉकडाउन में हुआ था।

चार मोटरसाइकिल सहित आठ साइकिल पर जब्ती की कार्यवाही

चेकिंग के दौरान पुलिस और प्रशासन की टीम

आज सुबह से ही रायगढ़ पुलिस पुलिस भी बेवजह घूमने वाले लोगों पर वहां जब्ती और चलानी कार्यवाही कार्रवाई कर रही है। अभी तक की हुई कार्रवाई में कोतवाली पुलिस के द्वारा चार मोटरसाइकिल  और आठ साइकिल पर जब्ती की कार्रवाई की गई है। वही उद्योगों में काम पर निकले लोगों को समझाइश देकर वापस भेजा जा रहा है। सीएसपी अविनाश सिंह द्वारा उन्हें हिदायत दी गई है कि आदेशानुसार प्लांट में रह कर ही कार्य करें। वहीं कुछ कर्मचारी पुलिस की नजरों से छुपकर कर चौक चौराहों को छोड़कर गली कूचे के रास्ते से काम पर जाते दिखाई दिए।

लोगों को समझाइश देते रायगढ़ पुलिस

आपको बता दें कि रायगढ़ पुलिस ने कल ही जब्ती की कार्रवाई को लेकर सचेत किया था। इसमें कहा गया था कि इस बार लॉकडाउन काफी सख्त होगा। अनावश्यक रूप से बाहर निकलने वालों के वाहन जप्त किए जाएंगे और लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने वालों पर नियमानुसार चलानी कार्रवाई और एफ आई आर दर्ज की जाएगी।

एक मिल्क पार्लर भी हुआ सील

श्याम डेयरी में सील की कार्रवाई करते प्रशासनिक अधिकारी

वही ढिमरापुर चौक में आज प्रशासन द्वारा श्याम डेयरी को सील किया गया है। तहसीलदार सोमा पात्रे एवं नायब तहसीलदार श्रुति शर्मा ने यह कार्रवाई की गई है। आरोप है कि आदेश के बावजूद दूध डेयरी में दूध के साथ-साथ दूसरे सामानों की बिक्री की जा रही थी। आपको बता दे कि इस लॉक डाउन में स्पष्ट रूप से आदेश दिया गया है। मिल्क पार्लर और डेयरी फर्म में सिर्फ दूध की ही बिक्री की जा सकेगी अन्य सामानों की बिक्री प्रतिबंधित है।

Join Group