ट्रांसपोर्टर और आरक्षक द्वारा गार्ड की पिटाई मामले ने पकड़ा तूल ! एनएसयूआई प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडे ने मामले की जांच के लिए पुलिस अधीक्षक को सौंपा ज्ञापन ! पुलिस अधीक्षक ने दिया निष्पक्ष जांच का भरोसा..

  • News Desk 

रायगढ़। शहर की एक रिहायशी कॉलोनी में सोमवार की रात हुए ट्रांसपोर्टर रोहतास नेहरा के द्वारा सिक्योरिटी गार्ड दिव्यांश सिंह के साथ की हुई मारपीट मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस मामले को लेकर एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडे आज जिला पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह से मिले। और इस मामले में गार्ड के साथ पूंजीपथरा थाने में पदस्थ आरक्षक द्वारा की गई मारपीट के मामले जांच करवाने के लिए ज्ञापन सौंपा।

Advertisement

आपको बता दें कि इस मामले में पीड़ित गार्ड ने कैमरे के सामने मीडिया को बताया था कि सोमवार की रात रोहतास नेहरा और गार्ड दिव्यांश सिंह के बीच फ्रेंड्स कॉलोनी के गेट खोलने की बात पर विवाद हुआ था। जिसके बाद रोहतास नेहरा ने सिक्योरिटी गार्ड को 10-12 झापड़ मार दिए। घटना के बाद दोनों पक्ष कोतरा रोड थाना पहुंचे थे। कोतरा रोड थाने में दोनों पक्षों ने अपनी अपनी शिकायतें लिखवाई। जिसके बाद दोनों पक्षों के ऊपर समान धाराओं में कार्रवाई की गई। इसके बाद पूंजीपथरा थाने के आरक्षक ने पुलिस गाड़ी में आकर गार्ड को अपने साथ बिठा कर ले गया और कोतरा रोड थाने के पास उसकी बेरहमी से पिटाई की उसके बाद उसे वापस फ्रेंड्स कॉलोनी के गेट पर छोड़ दिया गया।

इस मामले ने काफी तूल पकड़ा। पीड़ित गार्ड एनएसयूआई का एक कार्यकर्ता है और पॉलिटेक्निक कॉलेज में अपनी पढ़ाई करता है। जो लॉकडाउन में परिवार चलाने के लिए सिक्योरिटी गार्ड की 6000 की नौकरी कर रहा था। जहां उसकी ड्यूटी फ्रेंड्स कॉलोनी के गेट पर रात को लगी थी। इस मामले को एनएसयूआई ने काफी जोर-शोर से उठाया। सोशल मीडिया पीड़ित के वीडियो से पट गया। जिसमें घटनास्थल से 17 किलोमीटर दूर पूंजीपथरा थाने के आरक्षक द्वारा की गई मारपीट को लोगों ने गलत ठहराया।

इसे लेकर आज दोपहर करीब 12:30 बजे एनएसयूआई के प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडे के नेतृत्व में छात्रों का एक दल रायगढ़ जिला पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह से मिला। जहां एनएसयूआई प्रदेश उपाध्यक्ष राकेश पांडे ने पीड़ित गार्ड के साथ न्याय और आरक्षक पर जांच और कार्रवाई के लिए पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपा।

राकेश पांडे ने बताया कि उनके इस मामले में रायगढ़ जिला पुलिस अधीक्षक से सकारात्मक बातचीत हुई। पुलिस अधीक्षक ने उनकी बातों को गंभीरता से सुना। जिसमें उन्होंने पूरे मामले की निष्पक्ष जांच करने करने का आश्वासन दिया और जांच के दौरान निष्पक्ष जांच के लिए आरक्षक धर्मेंद्र सिंह को लाइन अटैच करने की बात कही। वहीं सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि मामले को जिला पुलिस अधीक्षक द्वारा काफी गंभीरता से लिया गया है। इसके लिए जांच बैठा दी गई है और आरक्षक को लाइन अटैच का आदेश किया गया है।