नियम कानून को ताक पर रखकर कर रहे राखड का परिवहन ! नहीं है किसी कार्यवाही का डर…?

रायगढ़। रात के अंधेरे में ट्रांसपोर्ट नगर स्थित संगीतराई ग्राम में नवनिर्मित कालिंदी विहार कालोनी में अवैध तरीके से फ्लाईऐश पाटा जा रहा था।

परिवहनकर्ता व कालोनाइजर की मिली भगत

यह घटना शनिवार रात की मोनेट फैक्ट्री से निकलने वाली फ्लाई ऐश है जो गुडेली के लिए निकलती है और मोनट से रायगढ़ आकर ट्रांसपोर्ट नगर में बनने वाली नवनिर्मित कॉलोनी में आकर बिना किसी अनुमति के खाली कर दी जाती है। आश्चर्य की बात यह है कि कॉलोनाइजर को इस बात की भनक तक नहीं है की उसके कॉलोनी में डस्ट पाटा जा रहा है।

Advertisement

कामाक्षी ट्रांसपोर्ट की गाड़ियां

वाहन क्र.CG13Z9277, CG13Z9274, CG13AD5552 जोकि मोनेट से राखड लेकर गुडेली के लिए निकली और परिवहन खर्च बचाने के लिए वह ट्रांसपोर्ट नगर में बन रहे कॉलोनी जिनके मालिक राजेश जिंदल हैं उनसे बात कर उनकी कॉलोनी में कॉलोनी के पटाई के लिए उक्त राखड को रात के अंधेरे में खाली किया जाता है तथा गाड़ी में राखड के परिवहन संबंधी किसी भी प्रकार का कागजात नहीं था, नाही अनापत्ति प्रमाण पत्र की कोई कॉपी थी, जब उस कॉलोनी के सुपरवाइजर से पूछा गया तो उसने बताया कि इस बारे में कॉलोनी के मालिक राजेश जिंदल को पता है तथा आज हमने 5 गाड़ियां राखड से भरी यहां खाली कराई है। पर्यावरण को हो रहे नुकसान से इन्हें फर्क नहीं पड़ता ।

इस तरह परिवहन करने वाले परिवहन कर्ताओं को पर्यावरण से कोई लेना देना नहीं होता इन्हें सिर्फ अपनी मोटी कमाई ही दिखती है इस तरह के लोग पर्यावरणीय क्षति के बारे में बिल्कुल परवाह नहीं करते, यह कोई पहला मामला नहीं इससे पूर्व भी राखड़ को यहां वहां अवैध तरीके से खपाने के मामले सामने आए हैं।

क्या कहता है मोनेट प्रबंधन

उनका कहना है की उक्त परिवहनकर्ता द्वारा जो लोड लिया गया था उस कॉलोनी के लिए नहीं था यह परिवहन में अधिक लाभ कमाने के लिए किया गया है हम संबंधित ठेकेदार का काम तत्काल बंद किया जाएगा, क्योंकि अनुबंध में यह बातें स्पष्ट होती कि अगर कोई कार्य में कोताही बरतेगा तो कंपनी प्रबंधन उसका कार्य तत्काल बंद करा सकता है।

इस पूरे मामले में इन्होंने अंधेरा होने का इंतजार किया तथा बिना लाइट की कॉलोनी में राखड़ से भरी गाड़ी खाली होने के पश्चात तुरंत रात को ही उसके ऊपर मिट्टी डालकर बराबर कर दिया जाता है ताकि सुबह यह लगे कि इसे मिट्टी से पाटा गया है।

कॉलोनाइजर कहते हैं मुझे कोई जानकारी नहीं

यह बेहद ही हास्यास्पद लगता है जब कॉलोनाइजर यह कहते हैं कि इस विषय में मुझे कोई जानकारी नहीं है जबकि मौके पर बैठे सुपरवाइजर ने स्पष्ट तौर पर कहा कि इसका पूरा लेखा-जोखा हमारे मालिक के पास रहता है, तथा कॉलोनी के मालिक का कहना है कि मैंने स्लेग के लिए बंटी सिंघल से बात की थी अगर राखड डाला जा रहा है तो मुझे कोई जानकारी नहीं है।

ऐसे ठेकेदार फैक्ट्रियों को लगा रहे चुना व साथ ही फैक्ट्रियों की होती है किरकिरी…

फैक्ट्रियों के द्वारा डस्ट को सही जगह पर निपटान करने के लिए भारी भार सहते हुए इन ठेकेदारों को भारी रकम देती है उसके बावजूद भी यह ठेकेदार कुछ पैसों के लालच के लिए अनियमित स्थानों पर डस्ट को डाल देते हैं जिस कारण फैक्ट्रियों को आर्थिक नुकसान तो होता ही है साथ ही इनकी किरकिरी भी होती है।

कार्रवाई क्या होगी?

ट्रांसपोर्ट नगर के पास बन रही इस रिहायशी कॉलोनी को पाटने में फ्लाई ऐश का उपयोग नियम विरुद्ध किया जा रहा है इसमें मीडिया के दखल के बाद फिलहाल उक्त कार्य को रोक दिया गया है लेकिन इसमें कौन सा विभाग और क्या कार्रवाई करेगा यह समय के गर्भ में है।