Home Exclusive RIG Tadka: आलीशान बंगले से परिपूर्ण ऐशो आराम प्रशासनिक अधिकारियों के..! कौन...

RIG Tadka: आलीशान बंगले से परिपूर्ण ऐशो आराम प्रशासनिक अधिकारियों के..! कौन उठाता है इन अधिकारियों के खर्चे…!! पार्ट-3

RIG24 रायगढ़। भाजपा सरकार में पदस्थी हुई अधिकारियों के ऐशो आराम की गाथाओं को लिखने में हमें जरा भी हिचक नही हो रही है और होगी भी क्यो? क्योंकि प्रसासनिक आतंकवाद से परिपूर्ण शासन बीजेपी का लोकतंत्र में हार जरूर गया पर वैसे ही जैसे कहा जाता है अंग्रेज चले गए और औलाद छोड़ गए।

एक लंबी सूची है ऐशो आराम से रहने वाले अधिकारियों के रायगढ़ जिले में।

पिछले दिनों हमने cg13ub 1231 नम्बर की टैक्सी के हालात लिखे थे जिसमें CG GOVTभी लिखा हुआ था जिसपर और कुछ है जो हम बाद में लिखेंगे।

अब आ जाते हम आज अपनी तीसरी किश्त में…
जब हम चक्रधर नगर स्थित स्टेडियम की ओर जा रहे थे तो हमारी नजर एक सुंदर वेल मेन्टेड सरकारी बंगले की ओर पड़ी जिसको सड़क से ही देखने पर तीन तीन स्प्लिट ऐसी के ब्लोअर दिखे हमने सोचा कि ये बंगला किसी उद्योगपति को तो आबंटित नही हो गया पर मेनगेट पर जाकर देखने से नेमप्लेट पर नाम लिखा था प्रकाश कुमार सर्वे जो कि पहले रायगढ़ एसडीएम के बतौर कार्य कर चुके हैं। जिनके ऊपर मुआवजा वितरण मामले में माननीय न्यायालय में प्रकरण लंबित है। यू तो सर्वे जी भूअधिग्रहण के अनाधिकृत रूप से विशेषज्ञ माने जाते थे और एनटीपीसी रेललाइन व एनटीपीसी लारा योजना में बहुचर्चित रहे। सरकारी बंगले के दरवाजे और दीवाल के मध्य कुछ जगह आरपार दिखने जैसे थी अंदर देखने पर दिखा की कलकत्ता के इडर्न गार्डन से भी बढ़िया गार्डन बन रखा है। अब सर्वे साहब का स्थानांतरण रायगढ़ से जगदलपुर और जगदलपुर से सम्भवतः बेमेतरा जिला हो गया है। इस बंगले की देखभाल के लाखों रुपये के खर्चे कैसे मेंटेन हो रहे होंगे? यह तो एनटीपीसी का CSR विभाग से ही जानकरी मिल सकती है। पर तीन तीन ऐसी का बिजली बिल कितना आता होगा यह तो बिजली विभाग ही जानेगा। पर निःसंदेह आम आदमी के बजली बिल से कम ही आता होगा।

ऐशो आराम की जिंदगी में लालफीताशाही के अधिकारी वर्ग आम जनता के सेवक के परिभाषा से विपरीत होते जा रहे हैं जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने जगह जगह चौपाल लगाकर रूबरू होकर जनता से सुख दुख बांटने की प्रक्रिया अपनाई और ये अधिकारी अपने कार्यलयों में वातानुकूलित कक्ष में बैठकर के आम जनता से मिलने पर कोताही बरतते है जो कि प्रदेश सरकार के मुखिया के स्वभाव से विपरीत है।

प्रकाश सर्वे के इस सरकारी मेंटेंड बंगले पर कई नव पदस्थ अधिकारियों की नजर गड़ी हुई है कि ये कब खाली हो तो हमे इस बंगले के सुख भोगने के अवसर मिले। पर प्रश्न ये भी है कि इस बंगले को मेंटेन करने के लिए खर्च की राशि कहा से आएगी।

Must Read

पति – पत्नी के बीच अक्सर होता था विवाद …! पत्नी गई थी नहाने तब तक पति ने फांसी लगाकर कर ली...

रायगढ़।तमनार थाना अंतर्गत ग्रामकठरापाली( डोलेसारा) में उस वक्त सनसनी फैल गई जब गांव वालो को पता चला कि 45 वर्षीय सुखदेव कुर्रे ने घर...
advertigement
Recommended