IND vs AUS : सिडनी वनडे से पहले विराट को ढूंढने होंगे तीन सवालों के जवाब ! नहीं तो मिलेगी करारी हार !

788 views

नई दिल्ली। भारतीय टीम शुक्रवार से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाली बहुप्रतिक्षित सीरीज के पहले वनडे मैच के साथ दौरे का आगाज करने को तैयार है। सिडनी के मैदान पर होने वाले इस मैच में दोनों टीमें करीब 21 महीने बाद एक दूसरे का सामना करने वाली हैं। आखिरी बार जब दोनों की भिड़ंत हुई थी कंगारू टीम ने इस मैदान पर जीत हासिल की थी। वैसे तो सिडनी के मैदान पर भारतीय टीम का रिकॉर्ड अपने आप में काफी डरावना है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मौजूदा सीरीज में टीम के सबसे कामयाब खिलाड़ी और बल्लेबाज रोहित शर्मा की गैरमौजूदगी इसे विराट कोहली के लिये और मुश्किल बनाती है।

सिडनी के मैदान पर होने वाले इस वनडे मैच से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली के सामने कई अहम सवाल हैं, जिनका सटीक जवाब ढूंढकर उन्हें मैदान पर उतरना होगा वरना ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर अपनी तीसरी ही वनडे द्विपक्षीय सीरीज खेल रही भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ सकता है।

सुलझानी होगी ओपनिंग की पहेली

भारतीय कप्तान विराट कोहली के लिये इस सीरीज में जो सबसे बड़ी पहेली है वह है कि सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के साथ पारी के आगाज के लिये किस खिलाड़ी को भेजा जाये। ऐसे में उनके पास दो विकल्प हैं, जिसमें वह मयंक अग्रवाल को सलामी बल्लेबाज के रूप में भेजे और केएल राहुल से मध्यक्रम में बल्लेबाजी करवायें, जिससे न सिर्फ भारतीय बल्लेबाजी को गहराई मिलेगी बल्कि फॉर्म में चल रहे केएल राहुल के रूप में टीम के पास भरोसेमंद फिनिशर भी उपलब्ध रहेगा।

वहीं मयंक अग्रवाल ने ओपनिंग करते हुई काफी अच्छी शुरुआत देने का कारनामा पहले भी किया है और वह इस काम को लगातार अच्छे ढंग से कर रहे हैं। हालांकि अगर विराट कोहली इसके बजाय केएल राहुल से ओपनिंग कराते हैं तो मयंक अग्रवाल मध्यक्रम में बल्लेबाजी करते हुए वह फॉर्म नहीं दिखा पायेंगे जिसके लिये वह जाने जाते हैं। ऐसे में टीम मयंक को आराम देकर मनीष पांडे को मध्यक्रम में फिनिशर की भूमिका दे सकती है, जिन्होंने भारत में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अहम पारी खेलकर टीम को जीत दिलाने का काम किया था, लेकिन ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर दोहराना आसान नहीं होगा।

क्या साथ खेलेगी कुलदीप-चहल की जोड़ी

वनडे सीरीज के पहले मैच से पूर्व कप्तान विराट कोहली के सामने जो दूसरा अहम सवाल है कि क्या कंगारू टीम के खिलाफ मैदान पर ‘कुलचा’ के नाम से मशहूर कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी वापसी करेगी या फिर पिछले कई मैचों की तरह एक बार फिर मैदान पर दोनों में से सिर्फ एक ही खिलाड़ी खेलता हुआ देखने को मिलेगा।

उल्लेखनीय है कि मौजूदा समय में भारत के लिये सबसे कामयाब स्पिन गेंदबाजों की जोड़ी में कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी भी आती है, जिसने गुच्छों में विरोधी टीम के विकेट चटकाने का काम किया है। हालांकि पिछले कुछ सालों से दोनों खिलाड़ियों में से सिर्फ एक को ही जगह मिल पाती है जो कि जोड़ी की तुलना में कम खतरनाक साबित होती है। सिडनी में अगर कोहली इस जोड़ी में से सिर्फ एक गेंदबाज के साथ जाना चाहेंगे तो कुलदीप की तुलना में चहल के प्लेइंग 11 में जगह बनाने का ज्यादा मौका है।

कैसी होगी मध्यक्रम की तिकड़ी

अपने दिग्गज खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में भारतीय टीम के लिये प्लेइंग 11 का संयोजन बड़ी चुनौती तो है लेकिन उसके साथ ही कप्तान कोहली के लिये मजबूत मध्यक्रम एक बड़ा सवाल है। कप्तान विराट कोहली के लिये हार्दिक पांड्या इस सीरीज में बतौर बल्लेबाज खेल रहे हैं, आजकल गेंदबाजी नहीं करने के चलते उनका टीम के लिये एक अतिरिक्त गेंदबाजी देने का विकल्प खत्म हो गया है।

ऐसे में विराट कोहली इस बात को लेकर कश्मकश में हैं कि अगर वो मयंक अग्रवाल से ओपनिंग कराते हैं तो नीचे मनीष पांडे को रखें या फिर हार्दिक पांड्या को। इसमें कोई शक नहीं है कि हार्दिक विस्फोटक पारियां खेल सकते हैं लेकिन मनीष पांडे ने मुश्किल समय में न सिर्फ जुझारू पारियां खेली हैं बल्कि रनों की गति को कभी भी बढ़ाने का दम रखते हैं, जिसके चलते वह प्लेइंग 11 में जगह बनाने के ज्यादा दावेदार नजर आते हैं। ऐसे में भारतीय टीम के पास मध्यक्रम में श्रेयस अय्यर, केएल राहुल और मनीष पांडे/हार्दिक पांड्या शामिल हो सकते हैं। वहीं अगर राहुल ओपनिंग करते हैं तो यह मध्यक्रम श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या के साथ नजर आ सकता है।