दो बैलों ने 280 किलो खाया चारा ! 6400 किलो किया गोबर ! गोबर खरीदी में घोटाला आया सामने !

9,052 views

बिलासपुर। तखतपुर ब्लाक के ग्राम खैरा में गोबर खरीदी में घोटाला फूटा है। समिति ने गांव के एक किसान के दो बैलों से सात दिनों में 6400 किलोग्राम गोबर की खरीदी करना और इसके एवज में किसान को 12 हजार 800 स्र्पये का भुगतान करना बताया है। गड़बड़ी सामने आने के बाद जिला पंचायत के आला अफसरों में हड़कंप मच गया है। अचरज की बात यह है कि जिम्मेदार अधिकारी इस पूरे मामले से बचने की कोशिश कर रहे हैं।

गौठान समिति ने 29 सितंबर से पांच अक्टूबर 2020 के बीच गांव के एक किसान के दो बैलों से छह हजार 400 किलोग्राम गोबर की खरीदी की है। प्रति किलोग्राम दो स्र्पये के हिसाब से बैल मालिक को समिति ने 12 हजार 800 स्र्पये का भुगतान किया है।

यह बैल किसी और का नहीं बल्कि खैरा गौठान समिति के अध्यक्ष का है। गोबर खरीदी के लिए राज्य शासन द्वारा बनाए गए नियम और मापदंड पर नजर डालें तो एक मवेशी से अधिकतम पांच किलोग्राम गोबर की खरीदी की जानी है।

गौठान समिति के अध्यक्ष के पास दो बैल हैं। लिहाजा प्रतिदिन 10 किलोग्राम गोबर की खरीदी होनी थी। एक सप्ताह में 70 किलोग्राम गोबर की खरीदी की जानी थी। जिला पंचायत के आंकड़ों पर नजर डालें तो खैरा में गोवंशीय जानवरों की संख्या 557 हैं। भैस वंशीय जानवरों की संख्या मात्र 47 है। जानकारी के अनुसार ग्राम पंचायत खैरा में मवेशी मालिकों के नाम बैंक अकाउंट नहीं है। लिहाजा गौठान समिति के अध्यक्ष के नाम से अन्य मवेशी मालिकों के नाम बैंक में अकाउंट नहीं है। लिहाजा एक ही व्यक्ति के नाम गोबर खरीदी कर पूरी राशि उनके नाम बैेंक में जमा करा दी गई है।

इन्होंने कहा

गोबर खरीदी में इस तरह की गड़बड़ी की जानकारी नहीं मिली है। शिकायत भी दर्ज नहीं कराई गई है। शिकायत मिलने पर जांच कराई जाएगी।

रिमन सिंह

परियोजना अधिकारी,जिला पंचायत