रायगढ़/ मवेशी ढूंढने जंगल गए ग्रामीण को मौत के घाट उतारने के बाद… अब उत्पाती हाथियों ने दो दर्जन किसानों के 50 एकड़ जमीन में लगे धान के फसल को किया तबाह…किसानों का आरोप- नाम मात्र के लिए दी जाती है मुआवजा राशि..!! देखे वीडियो, पढ़े पूरी खबर…

रायगढ़। जिले के तमनार ब्लाक में ईन दिनों हाथियों का उत्पात जारी है बीते दिन सामरउमा सरकिल के अमलीडीही गांव का ग्रामीण मवेशी खोजने जंगल में गया था तभी उसका सामना हाथी से हुआ और हाथी ने मौत के घाट उतार दिया। बीती रात को तमनार ब्लाक व रायगढ़ रेंज के बड़गांव गांव में हाथियों ने जमकर उत्पात मचाया है गांव के करीबन 2 दर्जन से अधिक किसानों का फसल को तबाह कर दिया है। उत्पाती हाथियों ने पैरों तले फसलों को रौंद दिया है। जिससे किसानों को लाखों का नुकसान हुआ है । किसानों ने बताया कि वे लोन लेकर खेती किये थे लेकिन उतपाति हाथियों ने किसानों की फसल को रौंद डाला। किसानों को विभाग की ओर से नुकसान फसल के मुआवजा तो मिलती है लेकिन वह महज खानापूर्ति के रूप में मुआवजा दी जाती है।

देखे वीडियो 👇

जंगली हाथी ने धान के फसल को रौंदा

विदित हो कि कल दिनांक 10-09-2020 को रायगढ़ विकास खण्ड-तमनार के ग्राम पं.-बड़गाँव के लगभग दो दर्जन किसानो के खेत में बिती रात लगभग दर्जन भर हाथियों ने पुरा फसल को नष्ट कर दिया जिससे लाखों का नुकसान हुआ । प्रभावित कृषकों का नाम:तोड़ाराम मालाकार ,हुलस मालाकार ,निरंजर मालाकार, चैतन मालाकर,कोमल् मालकार, लिलाधर मालाकार ,मिलाप मालाकार गुरुनानक मालकार ,चुड़ामणी मालाकार ,प्रेमसागर मालाकार , मुन्ना मालाकार , कौशिक मालाकार ,नरसिह मालाकार , भागीरथी मालाकार दाम्बोदर मालाकार ,कौशल मालाकार ,तिलक मालाकार , गुणनीधि मालाकार ,मिनकेतन मालाकार रविशंकर मालाकार ,टीकम मालकार ,डेमश मालाकार , एवं अन्य ग्रामीणों को गहरी छती हुई। इधर सरकार द्वारा दिये जाने वाली क्षतिपुर्ति नहीं के समान है जिससे किसानो के लिये गम्भीर चिन्ता का विषय बना हुआ है अब तो किसान खेती करने के लिए डर रहे है क्योकि खेती मे किया हुआ खर्च किसके सहारे ऋण अदा करे ।

Join Group